Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
अगस्ता वेस्टलैंड (Agustawest land) सौदे
अगस्ता वेस्टलैंड (Agustawest land) सौदे|Google
टॉप न्यूज़

लोकसभा चुनाव 2019 में मिशेल महाराज के नाम का ही जप होगा,महंगाई, बेरोजगारी, नोटबंदी जैसे मुद्दे पीछे हो जाएंगे

शिवसेना ने साधा BJP पर निशाना: बेरोजगार, नोटबंदी, किसान आत्महत्या और राम मंदिर के मुद्दे अब पीछे आगामी चुनाव मिशेल के नाम पर लड़ा जाएगा

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

मुंबई: महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना लगातार बीजेपी (BJP) पर हमलावर रुख बनाये हुए है। शिवसेना (Shiv Sena) ने बीजेपी और कांग्रेस (Congress) के बीच बढ़ते आरोपों और प्रत्यारोपों के बीच कहा कि अगर कांग्रेस (Congress) केंद्र में सत्ता पर होती तो बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं का नाम आरोपियों की सूची में रहते और जब बीजेपी (BJP) सत्ता में है तो कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का नाम आरोपियों की सूची में है। अब कांग्रेस इसी तरह के आरोप लगा रही है। ‘‘सरकारी मशीनरी पर कुछ लोगों का नियंत्रण है और राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ इसका दुरुपयोग किया जा रहा है।’’

‘‘सामना’’ मुखपत्र में लिखे संपादकीय में शिवसेना ने कहा है कि अगस्ता वेस्टलैंड (Agustawest land) सौदे में रिश्वत लेने के आरोप लगे हैं और दोषी चाहे कितने ही बड़े क्यों न हों, उन्हें बख्शा नहीं जाना चाहिए। लेकिन, चूंकि मिशेल (christian michel) ने सोनिया गांधी (Soniya Gandhi) तथा कांग्रेस (Congress) के अन्य नेताओं का नाम ले लिया है तो जनता बीजेपी द्वारा किये गए राफेल घोटाले (Rafale Deal) को भूल नहीं जाएगी।

Also read: राफेल सौदे पर नरेंद्र मोदी के मौन रहने से लोगों में ‘‘संदेह’’ - शिवसेना

शिवसेना (Shiv Sena) ने कहा, ‘‘जैसे सोनिया गांधी (Soniya Gandhi) और अन्य का नाम यहां (अगस्ता वेस्टलैंड (Agustawest land) मामले में) लिया गया है उसी प्रकार फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने अनिल अंबानी (समूह) का नाम लिया है और यह (राफेल) घोटाला (Rafale Deal) हजारों करोड़ रुपए का है।’’

संपादकीय में कहा गया, ‘‘यह 2019 (में होने जा रहे लोकसभा चुनाव) से पहले सोनिया गांधी (Soniya Gandhi) और उनके बेटे को घेरने की कोशिश है और क्वात्रोची (बहुचर्चित बोफोर्स घोटाले में चर्चित रहे पूर्व इतालवी कारोबारी) के बाद अब देश में मिशेल (christian michel) पुराण शुरू हो जाएगा।’’

Also read: उद्धव ठाकरे ने की राहुल गांधी के कामों की तारीफ, कहा अयोध्या में मंदिर नहीं तो गठबंधन नहीं 

बीजेपी (BJP) सरकार सदैव हिंदुत्व के मुद्दे पर चुनाव जीतती आई है, 2014 में हुए लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) से उन्हें इसका फायदा भी हुआ लेकिन इसबार राम मंदिर (Ram Temple) नहीं बन पाने से लोग नाराज है। इसलिए शिवसेना ने व्यंग्य करते हुए कहा कि मुद्रा स्फीति, बेरोजगार, नोटबंदी, किसान आत्महत्या और राम मंदिर (Ram Temple) के मुद्दे अब पीछे चले जाएंगे और आगामी लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) मिशेल के नाम पर लड़ा जाएगा।