उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election, 2019)
लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election, 2019) |Google
टॉप न्यूज़

लोकसभा चुनाव 2019 में भी कर्जमाफी के फॉर्मूले को आजमाएगी कांग्रेस 

तीन प्रदेशों में किसान मुद्दे पर मिली जीत के बाद कांग्रेस ने कर्जमाफी को रामबाण मान लिया है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

लखनऊ: देश के तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव (Assembly Election 2018) में अच्छे प्रदर्शन ने कांग्रेस (Congress) का हौसला बढ़ाया है। कांग्रेस (Congress) की सफलता में किसान कर्जमाफी (Loan waiver) का बड़ा योगदान था। इस तथ्य को पार्टी ने गांठ बांध लिया है। इसे वह लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election, 2019) में भी आजमाएगी और इसी आधार पर पार्टी ने उत्तर प्रदेश में रणनीति बनानी शुरू कर दी है। इसीलिए, वह समाजवादी पार्टी (SP) के गैर कांग्रेसी गठबंधन पर भी ज्यादा फिक्रमंद नजर नहीं आ रही है। कांग्रेस पूरे प्रदेश में मंडल और बूथों पर पदयात्रा भी निकालने जा रही है। इन्हीं के बीच में कुछ बड़ी जनसभाएं भी तय की गई हैं जिसमें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) खुद शामिल होंगे।

तीन प्रदेशों में किसान मुद्दे (Farmer Problems) पर मिली जीत के बाद कांग्रेस (Congress) ने इसे रामबाण मान लिया है। जनवरी से पूरे प्रदेश में चुन-चुनकर किसानों के मुद्दों (Farmer Problems) पर कांग्रेस पार्टी चरणबद्ध तरीके से भारतीय जनता पार्टी (BJP) पर हमला करने वाली है।

वरिष्ठ पत्रकार रतनमणि लाल की मानें तो किसानों के लिए घोषणा कर देना चुनाव जिताने के लिए कारगर विधि है। इससे पहले चाहे जय जवान जय किसान का नारा रहा हो, गरीबी हटाओ यह सब अच्छे साबित हुए हैं। कुछ समय के लिए यह किसानों के मुद्दों (Farmer Problems) तो ठीक है। ऋणमाफी (Loan waiver) भी कोई दीर्घकालीक प्रयास नहीं है।

अर्थशास्त्री मानते हैं कि अगर कुछ किसानों के लिए करना है तो उनके लिए अच्छी व्यवस्था की जानी चाहिए। कर्जमाफी (Loan waiver) एक कदम भले हो सकता है लेकिन ऐसे छोटे-छोटे उपायों की जगह राजनीतिक दलों को बड़े उपाय की ओर ध्यान देना चाहिए।

कांग्रेस (Congress) को कर्जमाफी (Loan waiver) के नाम पर फायदा तो मिला ही है। इसीलिए उसको पता चल गया है कि यह वोट पाने की रणनीति अच्छी है। लेकिन अगर तेलंगाना (Telangana) में देखा जाए, जहां किसान समृद्धशाली है वहां पर कर्जमाफी (Loan waiver) की बात कभी सुनाई नहीं देती है।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक डॉ. दिलीप अग्निहोत्री की माने तो कांग्रेस के पास केवल कर्जमाफी ही मुद्दा है। किसानों की समस्याएं दूर करने और उनकी आय बढ़ाने का उसके पास कोई कार्यक्रम नहीं है। किसानों की समस्या (Farmer Problems) ऋणमाफी से नहीं दूर हो सकती है। उनके लिए अलग-अलग भंडारण , सिंचाई, बीज, बाजार की व्यवस्था की जानी चाहिए। मोदी सरकार (Modi Government) इसी दिशा में कार्य कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता आशू अवस्थी की मानें तो किसानों के लिए कांग्रेस हमेशा पक्षधर रही है। मोदी सरकार (Modi Government) जिस हिसाब से किसानों का नुकसान किया है उसी की भरपाई के लिए कांग्रेस अब जनजाग्रण करेगी। इसके लिए जनवरी के मध्य में मंडल से बूथ स्तर तक पदयात्राएं निकाली जानी है। कई जगह बड़ी जनसभाएं भी आयोजित की जाएंगी जिसमें हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) भी शामिल हो सकते हैं।

अवस्थी का कहना है ऋणमाफी किसानों के लिए स्थाई समाधान नहीं है पर जो साढ़े चार साल में किसानों का नुकसान हुआ है उसकी भरपाई के लिए उन्हें माफी देना उचित है।

--आईएएनएस