उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी|Google
टॉप न्यूज़

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भारतीय राजनीति पर प्रभाव बताएगी ये किताब, एक पूरा अध्याय शशि थरूर को समर्पित 

जल्द प्रकाशित होने वाली किताब ‘‘नरेंद्र मोदी: क्रिएटिव डिसरप्टर, द मेकर ऑफ न्यू इंडिया’’ 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री मोदी के राजनीतिक सफर पर यूं तो कई किताबें लिखी गई हैं, लेकिन शशि थरूर द्वारा लिखी किताब ‘‘दि पैराडोक्सिकल प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी एंड हिज इंडिया ’’ काफी पाठकों की पसंदीदा किताब बन चुकी है। इस किताब के बाद पत्रिका के पूर्व संपादक आर बालाशंकर ने प्रधानमंत्री के ऊपर एक नई किताब लिखी है। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजनीति पर प्रभाव और भविष्य पर इसके असर का आकलन इस नई किताब में किया गया है और इस किताब का एक दिलचस्प पहलू यह है कि इसमें एक पूरा अध्याय कांग्रेस नेता शशि थरूर के बारे में है।

भाजपा की केंद्रीय समिति के सदस्य और आरएसएस से जुडी अंग्रेजी पत्रिका ऑर्गेनाइजर के पूर्व संपादक आर बालाशंकर ने अपनी इस जल्द प्रकाशित होने वाली किताब ‘‘नरेंद्र मोदी: क्रिएटिव डिसरप्टर, द मेकर ऑफ न्यू इंडिया’’ में दावा किया है कि प्रधानमंत्री सादा जीवन जीते हैं और वह देश एवं लोगों के लिए समर्पित हैं।

बालाशंकर का कहना है कि उन्होंने ‘‘थरूर का मोदी के प्रति जुनून ’’नाम का अध्याय थरूर की ‘‘दि पैराडोक्सिकल प्राइम मिनिस्टर :नरेंद्र मोदी एंड हिज इंडिया ’’ नाम की किताब पढ़ने के बाद लिखना तय किया । इस अध्याय में दावा किया गया है कि इस कांग्रेस नेता में मोदी के प्रति ‘‘आकर्षण और एक छिपी हुई प्रशंसा’’ है।

इस पर प्रतिक्रिया करते हुये थरूर ने कहा कि उन्होंने अभी ये किताब पढ़ी नहीं है। कोणार्क से प्रकाशित होने वाली इस किताब का प्राक्कथन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने लिखा है।

आपको बता दें कि, कांग्रेस के दिग्गज नेता शशि थरूर ने PM मोदी पर लिखी किताब “THE PARADOXICAL PRIME MINISTER” को लोगों ने काफी पसंद किया था, साथ लोगों ने किताब में लिखी एक शब्द ‘floccinaucinihilipilification’ को लेकर सोशल मीडिया में मज़ाक उड़ाया था। दरअसल कांग्रेस नेता शशि थरूर ने अपनी किताब में ‘floccinaucinihilipilification’ शब्द का इस्तेमाल किया था। जिसके बाद शब्द का मतलब जाने के लिए लोगों को गूगल ट्रांसलेटर और डिक्शनरी का सहारा लेना पड़ा। लेकिन इस शब्द का मतलब ढूंढ़ने में गूगल भी असफल रहा।