उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सीबीआई के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग 
सीबीआई के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग |IANS
टॉप न्यूज़

CBI ने अपनी ही डिप्टी लीगल एडवाइज़र के खिलाफ दर्ज किया केस, एक और घमासान की तैयारी में CBI

सीबीआई (CBI) ने इस बार अपने डिप्टी लीगल एडवाइजर बीना रायज़ादा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में केस दर्ज किया है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: सीबीआई (CBI) एक बार फिर विवादों में हैं , देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी होने के बावजूद सीबीआई अपने आंतरिक मसलों से उभर नहीं पा रही है। सीबीआई (CBI) ने इस बार अपने डिप्टी लीगल एडवाइजर बीना रायज़ादा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में केस दर्ज किया है। बीना पर आरोप है है कि उन्होंने अपनी वार्षिक एप्रेज़ल रिपोर्ट में ब्रांच के प्रमुख के फर्ज़ी दस्तखत कर लिए हैं , जिससे उन्हें प्रमोशन मिल सके। सीबीआई (CBI) की डिप्टी लीगल एडवाइजर बीना रायज़ादा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 417 r/w 511, 468, 471 तथा 477 के तहत केस दर्ज किया गया है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बीना रायज़ादा मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है।

आपको बता दें कि, बीते कुछ महीनों से सीबीआई (CBI) लगातार सुर्खियों में छाया हुआ है। सीबीआई (CBI) रिश्वत कांड के बाद फर्जी हस्ताक्षर मसला। सीबीआई (CBI) के स्पेशल डायरेक्टर के खिलाफ मोइन कुरैशी से जुड़े एक मामले में रिश्वत लेने का आरोप है साथ ही उन्होंने सीबीआई चीफ पर ही उल्टा रिश्वत लेने का आरोप लगाए हैं। फिलहाल दोनों ही मामले सुप्रीम कोर्ट ( The Supreme Court of India) पहुंच गए हैं और कोर्ट के आदेश पर सीवीसी और केंद्र सरकार की ओर से अपनी-अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। इन मामलों की वजह से दुनिया भर में सीबीआई की बदनामी हुए है। सीबीआई की शाख को गहरा घक्का लगा है।

सीबीआई (CBI) देश की प्रमुख जांच एजेंसी है। सीबीआई (CBI) के पास देश के कई महत्वपूर्ण मामलों की जांच की जिम्मेवारी होती है। लेकिन बीते कुछ समय से सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी सन्देश के दायरे में आ रहे हैं ऐसे में सीबीआई (CBI) की पूरी सिस्टम पर सावज उठना लाजमी है। देश की प्रमुख जांच एजेंसी पर घोटाले का आरोप सरकार और जांच एजेंसी दोनों के लिए ही शर्म की बात है।