चीन को पछाड़, यूपी बनेगा OLED स्क्रीन बनाने का हब

सैमसंग बनाएगा भारत में OLED डिस्प्ले, उत्तर प्रदेश के नोएडा में करीब चार हजार आठ सौ छब्बीस करोड़ रुपये का निवेश करेगा।
चीन को पछाड़, यूपी बनेगा OLED स्क्रीन बनाने का हब
Samsung Will Make OLED Display in India Uday Bulletin

कोरोना स्थिति के बाद और चीनी नीतियों के मद्देनजर दुनिया भर के देशों ने चीन की तरफ अपनी निगाह टेढ़ी कर ली है जिसके चलते अब चीन आर्थिक मोर्चे पर भी खुद को अकेला पा रहा है। ताजा मामला दुनिया भर में ओएलईडी स्क्रीन बनाने को लेकर जुड़ा हुआ है विश्व मे गुणवत्ता पूर्ण स्क्रीन बनाने वाली कंपनी सैमसंग ने चीन पर भरोसा छोड़कर भारत मे नए उत्पादन संयंत्र बनाने का निर्णय लिया है। कंपनी उत्तर प्रदेश के नोएडा में अपना संयंत्र लगाएगी।

चीन को बाय-बाय, भारत मे बनेगा संयंत्र:

दुनिया भर में प्रीमियम स्मार्टफोन और बजट स्मार्टफोन के लिए प्रयुक्त होने वाला उच्च तकनीकी OLED डिसप्ले (स्क्रीन) अब जल्द ही मेड इन इंडिया दिखाई देगा। दरअसल बीते कुछ वक्त से चीन के खिलाफ दुनिया भर में लामबंदी हो रही है। जो चीन दुनिया भर को अपने उत्पादन पर निर्भर बनाये बैठा था। अब दुनिया की तमाम कंपनियों ने चीन को उसके हथियार से ही काटना शुरू कर दिया है।

दरअसल दुनिया भर में OLED पैनल बनाने में बेहद प्रशिद्ध तकनीकी मैन्युफैक्चरिंग कंपनी सैमसंग (Samsung) ने अब चीन से अपने इस उत्पाद का बोरिया बिस्तर समेट कर भारत के नोयडा में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट बनाने का निर्णय लिया है। इस अभियान के तहत सैमसंग उत्तर प्रदेश के नोयडा में करीब चार हजार आठ सौ छब्बीस (4826) करोड़ रुपये का निवेश करने का निर्णय ले चुकी है।

भारत बनेगा दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक:

यहां सबसे ज्यादा गौर करने वाली बात यह है कि इस संयंत्र के लग जाने के बाद भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा OLED स्क्रीन निर्माता देश बन जायेगा। इस परियोजना को बेहद उत्साह से चलाने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और उत्तर प्रदेश सरकार ने कंपनी के लिए कई रियायतें देने की घोषणाएं की है।

यूपी कैबिनेट ने इस शुरुआत के लिए पांच वर्षों में 250 करोड़ रुपये की छूट देने का प्रावधान भी रखा है साथ ही सरकार ने यह भी जाहिर किया है कि इस परियोजना के लिए सरकार भूमि अधिग्रहण, स्टाम्प ड्यूटी इत्यादि में भी छूट उपलब्ध कराएगी।

भारत बनेगा सिरमौर:

इस परियोजना के बाद स्मार्टफोन की दुनिया मे भारत का नाम बेहद ऊंचे लहजे से लिया जाना आवश्यक हो जाएगा दरअसल इस वक्त दुनिया मे दक्षिण कोरिया, वियतनाम और चीन इस डिस्प्ले के उत्पादन में प्रमुख है लेकिन सैमसंग के भारत आने के बाद चीन से यह तगमा जाना तय है।

इस डिस्प्ले का सबसे ज्यादा उपयोग स्मार्ट वॉच, टीवी, टैबलेट्स और स्मार्टफोन में होता है। इस प्रकार की स्क्रीन अपनी गुणवत्ता के बेहद अग्रणी मानी जाती है। कम ऊर्जा खपत के साथ-साथ बेहतर परिणाम दिखाने के लिए इस स्क्रीन का बहुतायत प्रयोग किया जाता है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com