उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग
फेसबुक के संस्थापक मार्क जकरबर्ग|Fortune
टेक बुलेटिन

अब फेसबुक के जरिये सीधे अदालती कार्रवाई होगी 

फेसबुक की नई पहल, कर्मचारी अगर चाहें तो यौन प्रताड़ना के मामलों की कंपनी के समक्ष शिकायत दर्ज करने के बजाए सीधे अदालती कार्रवाई कर सकेंगे 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

सैन फ्रांसिस्को | गूगल के पदचिन्हों पर चलते हुए फेसबुक ने यौन प्रताड़ना से जुड़े मामलों को लेकर अपनी नीतियों में बदलाव किया है और किसी कर्मचारी द्वारा किसी अन्य कर्मी पर इस तरह के आरोप के मामले में कंपनी द्वारा मध्यस्थता को वैकल्पिक बना दिया है। द वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। रिपोर्ट में शुक्रवार को कहा गया कि फेसबुक ने आंतरिक पोस्ट में अपने कर्मचारियों के समक्ष नई नीति की घोषणा की है।

नई नीति के मुताबिक, अब फेसबुक के कर्मचारी अगर चाहें तो यौन प्रताड़ना के मामलों की कंपनी के समक्ष शिकायत दर्ज करने के बजाए सीधे अदालती कार्रवाई कर सकेंगे।

इससे पहले गूगल ने भी गुरुवार को घोषणा की थी कि यौन प्रताड़ना और यौन उत्पीड़न के मामलों में कर्मचारियों के लिए कंपनी की मध्यस्थता वैकल्पिक होगी और वे सीधे अदालती कार्रवाई कर सकेंगे।

गूगल ने नई यौन प्रताड़ना नीति तब बनाई, जब उसके दुनिया भर के 20,000 से ज्यादा कर्मचारियों ने पिछले हफ्ते कंपनी में यौन उत्पीड़न और कंपनी के शीर्ष अधिकारियों द्वारा किए गए यौन उत्पीड़न के मामलों पर उचित कार्रवाई नहीं करने को लेकर हड़ताल की थी।

फेसबुक ने इसके अलावा कार्यालय के अंदर की डेटिंग नीति में भी बदलाव किया है। अब निदेशक या उससे ऊपर के स्तर के किसी व्यक्ति के किसी अन्य कर्मी के साथ रोमांटिक रिश्तों का खुलासा करना होगा, अगर वह कर्मी सीधे उसके अंदर काम नहीं करता हो, तो भी इसकी जानकारी देनी होगी।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार ‘द वर्ज’ की रिपोर्ट में कहा गया है कि फेसबुक, गूगल के साथ-साथ कई अन्य कंपनियों ने भी अपनी नीति में मध्यस्थता की धारा को हटा दिया है, जिसमें माइक्रोसॉफ्ट, उबर, और लिफ्ट शामिल हैं।

आपको बता दें कि, फेसबुक अपनी नीतियों में लगातार सुधार कर रहा है।साल सितंबर महीने तक फेसबुक ने अपने मंच से 1.4 करोड़ से ज्यादा आतंकी सामग्री हटा ली है, जो इस्लामिक स्टेट (आईएस), अलकायदा और उनके सहयोगियों से संबंधित थे। फेसबुक ने इसके अलावा कार्यालय के अंदर की डेटिंग नीति में भी बदलाव किया है। साथ ही यौन प्रताड़ना से जुड़े मामलों को लेकर अपनी नीतियों में बदलाव किया है।