chinese apps banned in india
chinese apps banned in india|Uday Bulletin
टेक बुलेटिन

भारत सरकार ने उठाये सख्त कदम, टिकटॉक समेत 59 चीनी एप को किया प्रतिबंधित

भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा को देखते हुए टिकटॉक, वीचैट, यूसी ब्राउजर जैसे 59 चीनी एप पर प्रतिबंध लगा दिया है

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

जानकारों की माने तो भारत चीन के बीच गलवन घाटी में हुई झड़प के बाद चीन को आइना दिखाने के लिए ये कदम उठाए गए हैं। भारत मे लंबे वक्त से इन चायनीज एप्स को बैन करने की मांग की जा रही थी। दरअसल इन चीनी एप्स के ऊपर पहले भी गोपनीय जानकारी चुराने के आरोप लग चुके हैं।

सरकार का बड़ा कदम:

भारत सरकार ने चीनी विरोध के चलते अब बड़े स्तर पर कदम उठाते हुए चीन और चीनी कम्पनियों द्वारा समार्थित 59 चीनी एंड्रॉयड एप के उपयोग पर पाबंदी लगा दी है। इन एप्लिकेशनस में कुछ ऐसे भी एप है जिनकी पॉपुलेरिटी बेहद उच्च स्तर पर थी और मेट्रो शहरों से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक बहुधा उपयोग किये जाते थे। लेकिन सरकार के एक कदम से इन एप्पलीकेशन के चहेतों के अरमानों पर पानी फिरना तय है।

सुरक्षा को बताया आधार:

सरकार ने इन एप्स को बैन करने के पीछे अपनी मंशा भी जाहिर की है। सरकार ने बताया कि इन सभी एप्स को द्वारा निर्धारित सुरक्षा मानकों को ताक पर रखकर बनाया गया था जिससे इन एप्लिकेशन के द्वारा उपयोगकर्ताओं की बेहद निजी जानकारी को ऐसे संगठनों तक पहुँचाया जा रहा था जिनसे भारत की एकता और अखंडता को खतरा पैदा हो रहा था। इससे पहले ही चीन के द्वारा भारत मे कई एप्लिकेशन के जरिये जासूसी करने के मामले सामने आए थे । इसके बाद भी इन चीनी एप्स के द्वारा जानकारी चुराकर चीन भेजी जा रही थी। नतीजन सरकार को सख्त कदम उठाने पड़े।

भारत सरकार ने सुरक्षा के मद्देनजर टिकटोक, शेयर इट , क्लेश ऑफ क्लाइन, कैम स्कैनर समेत 59 एप को बैन कर दिया है, देखना यह है कि इस प्रतिबंध के बाद टिक टॉक जैसे पॉपुलर एप के चहेतों के हाल क्या होंगे।

भारत सरकार ने सोमवार को यह फैसला पूर्वी लद्दाख में बीते दिनों चीन और भारत की सेना के बीच हुए हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद उपजे तनाव के बीच लिया है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com