बायकाट चायनीज का असर: पोको मोबाइल ने जारी किया वीडियो

अब इसे डर कहे या ब्रांडिंग का नया तरीका शाओमी से अलग होकर पोको खुद को भारतीय दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा, मुद्दा यह है कि मूलतः चायनीज फोन कंपनी शाओमी से निकला हुआ ब्रांड खुद को भारतीय बना पायेगा?
बायकाट चायनीज का असर: पोको मोबाइल ने जारी किया वीडियो
poco for india@IndiaPOCO Twitter Video Screengrab

दरअसल शाओमी के मालिकाना हक वाली स्मार्टफोन कंपनी पोको ने भारत चीन के बिगड़ते संबंधों को लेकर एक नई कैंपेन शुरू की है। पोको ने भारत के लोगों को बताने का प्रयास किया है कि हम पूरी तरह भारतीय है। बीते कुछ दिनों से चीन और भारत के सीमा विवादों और जनता में कोरोना वायरस को दुनियाभर में फैलाने को लेकर एक विरोध उमड़ रहा है। यही कारण है कि लोगों के द्वारा चीन के उत्पादों को लेकर बायकाट करने की मुहिम चल रही है उसी मुहिम के बचाव को लेकर पोको ने दावा किया है कि वह पैदा ही भारत मे हुआ है। कहने का मतलब यह है कि भारतीय संविधान में यह नियम है कि अगर कोई बच्चा भारत मे जन्म लेता है तो उसे स्वतः ही भारत की नागरिकता मिल जाती है, यही फार्मूला पोको अपने ब्रांड को लेकर लगा रहा है।

शाओमी का सब ब्रांड था पोको:

दरसअल पोको कोई और ब्रांड नहीं बल्कि शाओमी का ही सब ब्रांड था जो दूसरी चायनीज कंपनी से कंपटीशन के चलते हुए बनाया गया था। दरअसल जिस वक्त शाओमी अथवा एमआई का कंपटीशन वीवो और ओप्पो जैसे ब्रांड से था और शाओमी के सामने सभी दिग्गज उखड़ जा रहे थे उस वक्त वीवो और ओप्पो ( दोनो एक ही कंपनी की शाखाएं है) ने शाओमी को टक्कर देने के लिए रियलमी जैसे मिलते जुलते ब्रांड को बनाया ताकि लोग इसे इसके समकक्ष मान कर खरीदें। हालांकि इसके तुरंत बाद शाओमी ने रियलमी की काट के तौर पर ओप्पो से मिलते जुलते ब्रांड पोको को बाजार में उतारा और यह प्रयोग दोनों के लिए बेहद सफल रहा। आधिकारिक घोषणा के अनुसार पोको को 2018 में लांच किया गया था। उसके बाद भारत मे चायनीज विरोध की मांग के के चलते शाओमी के इंडिया हेड मनु कुमार जैन ने पोको को स्वतंत्र कंपनी घोषित किया गया।

पोको कम कीमत में ज्यादा देने के लिए जाना जाता है:

पोको और पूर्व में शाओमी कम कीमत में उपभोक्ताओं को ज्यादा तकनीकी लाभ देने के लिए जाना जाता है। 2018 में शाओमी ने पोको एफ 1 के तौर पर प्रयोग शुरू किया गया जो खासकर भारत मे काफी लोकप्रिय रहा। इस फोन का फोकस उन लोगों पर था जो बेहतर कॉन्फ़्रिग्रेशन के स्मार्टफोन कम कीमत पर खरीदना चाहते थे। यह काम पोको फोन ने किया उसके बाद लोकप्रिय होने के बाद से ही पोको के द्वारा लगातार वैरिएंट निकाले जा रहे है जो युवाओं के बीच खासे लोकप्रिय है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com