mg motors chinese company
mg motors chinese company|Google Image
ऑटोमोबाइल

एमजी मोटर्स: दुनिया की नजर में यूनाइटेड किंगडम की कंपनी असल में चायनीज है

भारत में बायकाट चाइना मुहीम से कैसे बच गई MG मोटर्स? लोगों को लगता है MG मोटर्स ब्रिटिश कार निर्माता जबकि असल में यह चाइना की कंपनी है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बीते समय मे एमजी मोटर्स ने भारत मे प्रवेश लिया और दमदार मार्केटिंग के जरिये भारत मे छाने को तैयार हो गयी लेकिन अचानक से भारत मे एमजी मोटर्स के हालात खराब होने लगे है। ग्राहकों द्वारा इस कंपनी के उत्पादों को उतना अच्छा नहीं बताया जा रहा जितना दावा किया जा रहा है। दरसअल यह यूनाइटेड किंगडम की कंपनी अब शंघाई बेस्ड कंपनी के अधिग्रहण में है कहने का मतलब यह अब चायनीज कार है।

क्या है कंपनी का इतिहास:

लगभग एक सदी का इतिहास समेटे हुए यह कंपनी करीब 90 साल पहले 21 जुलाई 1930 को ऑक्सफोर्ड के लॉन्ग वाल स्ट्रीट में स्थापित की गई जिसमें आटोमोटिव का उत्पादन शुरू किया गया उस वक्त इस कंपनी को एमजी कार कंपनी लिमिटेड ने खड़ा किया और तेज रफ्तार से चलने वाले वाहनों का विनिर्माण शुरू किया। इस कंपनी का असल नाम "मोरिस गैराजेज" है लेकिन वर्तमान में यह कार कंपनी अब यूनाइटेड किंगडम अर्थात ब्रिटिश कंपनी नही रही अब यह चायनीज वाहन निर्माता कंपनी एसएआईसी मोटर कारपोरेशन लिमिटेड के अधीनस्थ कंपनी है जो एक शंघाई बेस्ड वाहन निर्माता है।

भारत मे जोर शोर से किया प्रचार:

भारत मे एमजी ने अपनी शुरुआत 2017 में गुरुग्राम (तत्कालीन गुड़गांव) से एमजी मोटर्स इंडिया नाम से की। वर्तमान में राजीव छाबड़ा इसके प्रेसिडेंट और एमडी है भारत मे यह कार कंपनी 2019 से अपनी चार कारों को लगातार बेचने का प्रयास कर रही है:

  1. एमजी हेक्टर

  2. एमजी जेड एस इवी

  3. एमजी हेक्टर प्लस

  4. एमजी ग्लोस्टर

कर रही एडवरटाइजिंग में खेल:

भारत मे यह कार कंपनी लोगों के बीच अपनी ब्रिटिश कार निर्माता की छवि बरकरार करने के लिए जानबूझकर अपना प्रचार बेनेडिक्ट कम्बरबैच नामक एक्टर और निर्माता से करा रही है।

ग्राहकों के लगते आरोप:

एमजी की कारों को लेकर भारत में नजरिया बदलता जा रहा है इस मामले में सोशल मीडिया में तमाम ऐसे उदाहरण मिल जाएंगे जो इस कार के बारे में बुरे अनुभव दर्ज करा रहे है और कंपनी नई कारों पर भी अपनी कमी स्वीकार नहीं कर पा रही है नतीजन इस कार कंपनी का भविष्य भारत मे बेहद चिंताजनक नजर रहा है।

डिस्क्लेमर: यह लेख समाजिक और लोगों की प्रतिक्रियाओं के आधार पर लिखा गया है, उदय बुलेटिन इस लेख से कोई सहमति नहीं रखता है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com