उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
NassCom
NassCom|Twitter
टेक बुलेटिन

भारत के करीब 50 फीसदी IT कर्मी को नहीं आता अपना काम, प्रशिक्षण की जरुरत- NassCom

दुनिया की प्रमुख आईटी कंपनी नैसकॉम के अनुसार भारत (India) के करीब 50 फीसदी आईटी कर्मियों (IT personnel) को तत्काल कुशल (Immediate skilled) बनाने की आवश्यकता है।   

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

बेंगलुरू: कृत्रिम बुद्धिमत्ता ( Artificial intelligence) और डेटा एनालिटिक्स (Data Analytics) जैसी नई प्रौद्योगिकियों (New Technology) की मांग बढ़ रही है। वहीं, कुशल आईटी कर्मियों (Skilled IT personnel) की कमी है, जो उद्योग के शीर्ष निकाय नासकॉम (NassCom) के हितधारकों के लिए चुनौती है।

नासकॉम (NassCom) के आईटी-आईटीइएस (आईटी इनेबल्ड सेवाएं) क्षेत्र कौशल परिषद के मुख्य कार्यकारी अमित अग्रवाल (Chief Executive of Field Skills Council Amit Agarwal) ने कहा, "भारत के करीब 50 फीसदी आईटी कर्मियों (Skilled IT personnel) को तत्काल कुशल बनाने की आवश्यकता है, ताकि नई प्रौद्योगिकियों (New Technology) की मांग पूरी की जा सके।"

नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विसिस कंपनीज (नासकॉम) (NassCom) शीर्ष निकाय है, जो देश के आईटी और बिजनेस प्रक्रिया प्रबंधन (बीपीएम) उद्योग का प्रतिनिधित्व करती है।

कुशल कर्मियों (Skilled IT personnel) की मांग और आपूर्ति में अंतर से 2018 में उद्योग के प्रदर्शन पर असर पड़ा। क्योंकि उद्योग में करीब पांच लाख नौकरियों के लिए 1,40,000 कुशल आईटी कर्मी (Skilled IT personnel) नहीं मिले।

अग्रवाल ने कहा, "साल 2021 तक एआई और बिग डेटा में 7,80,000 नौकरियां होंगी, लेकिन 2,30,000 कुशल कर्मियों (Skilled IT personnel) की कमी होगी।"

वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम (Worlf Economic Form) की 'द फ्यूचर ऑफ जॉब्स 2018' रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर के करीब 54 फीसदी आईटी कर्मियों को नए प्रौद्योगिकी (New Technology) के हिसाब से दोबारा कौशल का प्रशिक्षण देने या उनके कौशल को बढ़ाने की जरूरत है।

आईटी उद्योग अब नई प्रौद्योगिकियों (New Technology) को अपना रहा है, जिसमें एआई, मशीन लर्निग (एमएल), डेटा एनालिटिक्स, ऑटोमेशन, रोबोटिक्स, ब्लॉकचेन, क्लाउड और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) शामिल हैं। ऐसे में कुशल कर्मियों की कमी के कारण कंपनियां चुनौतियों का सामना कर रही हैं।

अग्रवाल ने कहा, "उद्योग अपने कर्मचारियों के प्रशिक्षण पर करीब 10,000 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है, ताकि भविष्य के आईटी कार्यबल तैयार कर सके।"

--आईएएनएस