उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
विराट कोहली और मीराबाई चानू 
विराट कोहली और मीराबाई चानू |Image source- Dna India 
खेल

क्या इस बार मिलेगा विराट कोहली को राजीव गाँधी खेल रत्न पुरुस्कार ? 

विराट कोहली और मीराबाई चानू को राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से नवाजा जा सकता है 

Sneha Sinha

Sneha Sinha

दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान "विराट कोहली "और वेट लिफ्टर "मीराबाई चानू" को खेल रत्न पुस्कार के लिए नॉमिनेटेड किया गया है। विराट कोहली के सालों की मेहनत के तद्परिणाम स्वरुप खेल क्षेत्र के सबसे बड़े पुरुस्कार के लिए नाम की सिफारिश की गयी है और दूसरी ओर अपनी सर्वश्रेठ महिला भारोत्तोलक मीराबाई चानू जिन्होंने भारोत्तोलन वर्ल्ड चैंपियनशिप में 48 किलोग्राम वजन उठाने के स्वरुप गोल्ड मैडल जीता तथा कॉमनवेल्थस गेम्स में भी गोल्ड मैडल जीता। ऐसे स्वर्णिम अक्षरों से लिखे गए व्यक्तित्व को पुरुस्कृत करना बिल्कुल भी अनुचित नहीं होगा।

पीटीआई के रिपोर्ट्स के आधार पर अवार्ड के लिए नाम नॉमिनेटे करने वाली समिति के एक सदस्य ने पीटीआई को बताया की 2016 के बाद विराट कोहली का नाम दूसरी बार खेल रत्न पुरुस्कार के लिए नामित हुआ है लेकिन यहाँ सवाल यह उठता है की इस बार भी विराट पुरुस्कृत होंगे या नहीं, लेकिन यह सिर्फ खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर की मंजूरी के ऊपर निर्भर करता है। खैर उनके बीते पिछले सालों के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें पुरुस्कृत करने की संभावना काफी हद तक तय है और अगर उन्हें इस सम्मान से नवाजा जाता है तो वो क्रिकेट खेल के तीसरे क्रिकेटर होंगे क्योंकि इसके पहले 1997 में महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को एवं 2007 में 2 बार विश्वकप जिताने वाले महेंद्र सिंह धोनी को इस पुरुस्कार से पुरुस्कृत किया गया है।

साइखोम मीराबाई चानू भारत की सबसे उत्तम दर्जे की महिला है जिनने कॉमनवेल्थस गेम्स में कई पदक जीते है और उन्हें इसी वर्ष भारत सरकार के द्वारा पदम श्री पुरुस्कार से पुरुस्कृत किया गया है, अगर आप पदकों के आधार पर इनका नाम ले तो इन्होनें अभी तक के भारोत्तोलन में सारे रिकार्ड्स तोड़ दिए हैं। अगर इन्हे यह पुरुस्कार मिलता है तो यह भी विराट की तरह ही अपने क्षेत्र की तीसरी महिला होंगी क्योंकि इनके पहले 1995 में कर्णम मल्लेश्वरी जो की अपने समय की बहुत बड़ी प्राशंसिक भारोत्तोलक थी और 1996 में कुंजरानी देवी भी इस पुरुस्कार की स्वभागिनी बनी। दोनों ही नामित नाम ऐसे है की आप किसी एक को कम या ज्यादा नहीं बता सकते न ही किसी आधार पर तुलना कर सकते है , दोनों ही खिलाड़ी अपने क्षेत्र के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी है लेकिन किसे यह अवार्ड मिलेगा यह अब बस खेल मंत्री के निर्णय के ऊपर निर्भर है।