उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
सचिन तेंदुलकर और विनोद कांबली के साथ कोच रमाकांत आचरेकर (Ramakant Achrekar)
सचिन तेंदुलकर और विनोद कांबली के साथ कोच रमाकांत आचरेकर (Ramakant Achrekar)|Google
क्रिकेट

सचिन तेंदुलकर के गुरु ‘रमाकांत आचरेकर’ के निधन पर PM Modi ने जताया दुख कहा... 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने गुरुवार को दिग्गज क्रिकेट कोच रमाकांत आचरेकर के निधन पर शोक व्यक्त किया और कहा कि उनका निधन खेल जगत के लिए ‘बड़ी क्षति’ है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: महान भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के गुरु रमाकांत आचरेकर (Ramakant Achrekar) का बुधवार को निधन हो गया। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) सहीत कई लोगों ने इसे क्रिकेट जगत की बड़ी क्षति करार दी है। प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने भी आज गुरुवार को दिग्गज क्रिकेट कोच रमाकांत आचरेकर (Ramakant Achrekar) के निधन पर शोक व्यक्त किया और कहा कि उनका निधन खेल जगत के लिए 'बड़ी क्षति' है।

प्रधानमंत्री (PM Modi) ने एक ट्वीट में कहा, "रमाकांत आचरेकर (Ramakant Achrekar) गुरु परंपरा की एक चमकती हुई मशाल थे। एक उत्कृष्ट गुरु, जिन्होंने वर्षों तक क्रिकेट की प्रतिभाओं को निखारा। उन्होंने जिन रत्नों का प्रशिक्षित किया उन्होंने देश को अपार गौरव दिलाया। उनका निधन खेल जगत के लिए बहुत बड़ी क्षति है। मेरी संवेदनाएं।"

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने बचपन के कोच रमाकांत आचरेकर (Sachin Tendulkar Coach) को भावभीनी श्रृद्धांजलि देते हुए चैम्पियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा ,‘‘ आचरेकर सर की मौजूदगी से स्वर्ग में भी क्रिकेट धन्य हो गया होगा ।’’ सचिन तेंदुलकर ने अपने गुरु को याद करते हुए कहा की

तेंदुलकर ने कहा ,‘‘ पिछले महीने मैं सर से उनके कुछ छात्रों के साथ मिला और हमने कुछ समय साथ बिताया । हमने पुराने दौर को याद करके काफी ठहाके लगाये ।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ आचरेकर सर ने हमें सीधा खेलने और जीने का महत्व बताया । हमें अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाने और अपने अनुभव को हमारे साथ बांटने के लिये धन्यवाद सर ।’’

उन्होंने आगे लिखा ,‘‘ वेल प्लेड सर । आप जहां भी हैं, वहां और सिखाते रहें ।’

आधुनिक क्रिकेट के महानतम बल्लेबाज तेंदुलकर को आचरेकर सर मुंबई के शिवाजी पार्क में कोचिंग देते थे । आचरेकर ने खुद एक ही प्रथम श्रेणी मैच खेला लेकिन तेंदुलकर के कैरियर को संवारने में उनका बड़ा योगदान रहा । वह अपने स्कूटर से उसे स्टेडियम लेकर जाते थे ।

आपको बता दें कि, महान भारतीय बल्लेबाज भारत रत्न सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) और उनके दोस्त विनोद कांबली को प्रशिक्षित करने वाले आचरेकर का मुंबई में बुधवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। आचरेकर (87) ने दादार स्थित अपने घर में शाम पांच बजे अंतिम सांस ली। आचरेकर को 2010 में पद्मश्री और वर्ष 1990 में द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।