उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
वायरल बुलेटिन

बेरोजगार होमगार्ड्स ने चलती बस, और सड़क पर मांगी भीख, विरोध का बेहद कामयाब तरीका

172 रुपये के लिए सरकार ने नौकरी से निकाला, भीख मांगने को मजबूर हुए होमगॉर्ड्स।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

देश मे बेरोजगारी अपनी चरम पर है, लेकिन सरकारों के अपने मजे बदस्तूर न सिर्फ कायम है बल्कि  खुद के खर्चो पर कोई लगाम नही है, मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक जहां तक अमला जाता है हज़ारों लाखों का पैसा पानी की तरह बर्बाद किया जाता है, लेकिन प्रदेश के होमगार्ड्स को 170 रुपये के आसपास देने की वजह से एक बड़ी संख्या में होमगार्ड्स को नौकरी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बेरोजगार होमगार्ड्स ने सरकार के तुगलकी फरमान का बेहद अद्धभुत विरोध करके दिखाया है, जिसकी चर्चा पूरे देश मे हो रही है, मुजफ्फरनगर में सुबह जैसे ही सूरज आसमान पर चढ़ा सड़को ,बसों, और अन्य पब्लिक प्लेस पर अजीबोगरीब भिखारी नजर आए जिन्होंने यूपीएचजी के बैच वाली खाकी वर्दी पहन रखी थी, बाजुओं पर उत्तर प्रदेश सरकार का बिल्ला लगाए, पुलिसिया जूते पहने महिला -पुरुष होमगार्ड लोगो से भीख मांगते नजर आए।

कल तक जो होमगार्ड्स उत्तर प्रदेश पुलिस के थानेदारों ,सिपाहियों के साथ वाहन चेकिंग, सुरक्षा में रौब के साथ नजर आते थे उनका सड़क में कटोरा लिए भीख मांगना लोगों के लिए बेहद आश्चर्यजनक था।

होमगार्ड दिवाली आने के पहले ही सरकार द्वारा अचानक दिए गए इस बोनस को जनता के साथ समझाते हुए भी नजर आए, होमगार्डस के अनुसार अबकी बार सब बेरोजगार वाली सरकारी हरकत ने उनका त्योहार हमेशा के लिए खत्म कर दिया है, उनके बच्चे अब उनके द्वारा मांगी गई भीख पर ही गुजारा करेंगे, मजे की बात तो यह रही कि होमगार्ड्स के इस अद्भुत विरोध पर आम जनता ने भरपूर सहयोग दिया लोगों ने अनोखे विरोध पर भीख में 10, 50,और 100 के नोट देकर होमगार्ड्स के विरोध को बुलंद किया।