Social Media Viral Message about Rooh Afza  
Social Media Viral Message about Rooh Afza  |Social Media (Edited By Uday Bulletin Team)
वायरल बुलेटिन

तब्लीगीयों की खुराफात का खामियाज रूह अफजा शरबत भुगतेगा।

तब्लीगीयों की खुराफात से खफा लोग रूह अफजा नहीं पिएंगे।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

आजकल सोशल मीडिया पर हालात कुछ ऐसे हो रहे है कि लोग मौका पाकर खुराफात करने से नही चूकते, ऐसा ही एक मैसेज सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमे रूह अफ्जा का प्रयोग न करने की सलाह दी जा रही है। लोगों ने दिल्ली में कोरोना का नया प्रसार केंद्र दिल्ली मरकज तबलीगी जमात का गुस्सा हमदर्द के रूह अफजा पर निकलना शुरू कर दिया है।

निशाने पर रूह अफजा :

देश मे कोरोना का स्तर जैसे-जैसे बढ़ता जा रहा है वैसे ही लोगों का गुस्सा तबलीगी जमात पर निकल रहा है। इस बढ़ते आक्रोश में समुदाय विशेष के द्वारा चिकित्सकों और पुलिसकर्मियों पर थूकने और हमला करने ने आग में घी का काम किया है। यही कारण है कि लोगों ने शोसल मीडिया पर समुदाय विशेष की औषधि निर्माता कंपनी पर आरोप लगाकर विरोध करना शुरू कर दिया है। लोगों ने सोशल मीडिया पर खुला विरोध करना शुरू कर दिया है वायरल चित्र में जो लिखा है हम उसको ज्यों का त्यों रख रहे हैं।

“कृपया गर्मियों में हमदर्द का शर्बत रूह अफज़ा न पिएं, न जाने कितने तब्लीगीयों ने इसमे थूका होगा”

अब गर्मियों में हमदर्द का शर्बत रूह अफज़ा न पिएं ना जाने कितने तबलीगियो ने इसमें थूका होगा

Posted by मेरा ग्वालियर एक स्मार्ट शहर on Monday, April 6, 2020

क्या है हमदर्द :

भारत में यूनानी और हर्बल बेस्ड दवाएं और उत्पाद बनाने वाली कंपनी जिसकी स्थापना भारत की आजादी से पहले 1906 में हकीम हाफ़िज़ अब्दुल मजीद के द्वारा भारत के ढाका ( पूर्वी पाकिस्तान, वर्तमान बांग्लादेश, पूर्व में भारत)में हुई थी। जिसे कालांतर में 1948 में इसे एक वक्फ( बोर्ड) में परिवर्तित किया गया। इस बोर्ड के प्रमुख उत्पाद रूह अफजा, सिंकारा, रोगन बादाम शिरीन इत्यादि है। यहां आपको बताते चले कि हमदर्द भारत के अलावा पाकिस्तान में भी हमदर्द लेबोरेटरी बोर्ड के नाम पर चल रहा है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com