mr indian hacker Car Blast Video
mr indian hacker Car Blast Video|Image Source: Mr. indian hacker Youtube Video Screenshot
वायरल बुलेटिन

क्या यूट्यूबर पैसे कमाने की चाहत में कुछ भी दिखा सकते हैं, इस बार तो कार ब्लास्ट का आईडिया ही दे दिया।

ये दुनिया एंटरटेन होना चाहती है, कहने का मतलब मनोरंजन, चाहे वह युवाओं में किसी तरह की सनक ही क्यों न भर दे। ताजा मामला मिस्टर इंडियन हैकर (MR.INDIAN HACKER ) यूट्यूब चैनल से जुड़ा हुआ है।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

दर्शकों की मांग पर कराई कार ब्लास्ट:

अब जब यहाँ बात मनोरंजन की हो रही है तो इसे सिर्फ मनोरंजन तक ही सीमित रखना बेहद ठीक होगा लेकिन यह क्या यहाँ यूट्यूब पर लाइक और सब्स्क्राइब पाने की चाहत में लोगों ने कई ऐसी प्रतिस्पर्धाओं को जन्म दिया है जो किसी प्रकार से मनोरंजन नहीं बल्कि एक खतरनाक खेल बन जाती है जिसमें किसी की भी मौत हो सकती है। चूंकि सरकार द्वारा ऐसे वीडियो और कंटेंट के प्रति कोई जवाबदेही नही है इसलिए ये सब बवाल खतरे का सबब बन हुआ है।

मिस्टर इंडियन हैकर नाम के यूट्यूब चैनल द्वारा डाला गया वीडियो:

क्या है इस वीडियो में:

वीडियो क्या सीधा-सीधा कार ब्लास्टिंग का आईडिया दिए गया है कि कार के ब्लास्ट करने से क्या होता है, कैसे कार ब्लास्ट किया जाता है।

वीडियो में क्रिएटर्स (mr indian hacker) के द्वारा एक पुरानी कार का इंतजाम किया गया है जिसमें एक बेहद बड़े साइज का पटाखा (जिसे मदर ऑफ आल बम्स भी कहा जा सकता है) को कार में रखकर डेटोनेटर की मदद से ब्लास्ट किया जाता है। विस्फ़ोट होने की वजह से कार के अंदर चारो तरफ से आग और धुंए का गुबार निकलता हुआ दिखाई देता है साथ ही कार की विंडशील्ड समेत लगभग सभी कांच टुकड़ो में टूट कर बाहर बिखर जाते हैं। साथ ही कार की बॉडी लगभग पूरी तरह अपना आकार बदल देती है जिसमें दरवाजे रूफ और बूट स्पेस इत्यादि शामिल है।

क्या जायज है ये खेल?

कानून का तो पता नहीं लेकिन किसी भी आम व्यक्ति को बिना लिखित परमिशन के इस तरह के ब्लास्ट करने की आजादी नहीं है वह भी किसी कार के अंदर इतना बड़ा बम रखकर विस्फ़ोट करना ये कहीं न कही लोगों को चिंता में डालता है। इस वीडियो में कई लोगों ने यह भी कहा कि यह साफ-साफ तरीके से कार को उड़ाने का प्रैक्टिकल है जिसे अन्य लोगों द्वारा सराहा जा रहा है। सबसे अहम सवाल यह है कि इतने बड़े पटाखे को ब्लास्ट करने के लिए क्या इनके द्वारा किसी विशेष अथारिटी से परमिशन लिया गया था।

क्या हो सकता है दंड?

अगर मामले को देखे तो इस तरह किसी वाहन में विस्फोटक पदार्थ रखकर ब्लास्ट करना भारतीय दंड संहिता, 1960 के 45 में दंड वर्णित किया गया है साथ ही इस तरह के मामले में आयुध अधिनियम 1959 में भी दंडित करने का प्रावधान है साथ ही इस तरह के मामलों के लिए विस्फोटक अधिनियम 1984 में सारी नियमावली वर्णित की गई है, कुल मिलाकर इस तरह के परीक्षण की शिकायत अगर स्थानीय पुलिस से की जाती है तो यकीनन ये लोग जेल की हवा खाते हुए नजर आएंगे। इस यूट्यूबर का नाम दिलराज सिंह रावत बताया जा रहा है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com