महिंद्रा एंड महिंद्रा के चेयरमैन ने कहा मैं हारा हुआ इंसान हूँ

आनंद महिंद्रा ने बिल गेट्स के साथ गुजारे समय के किस्से सुनाए
महिंद्रा एंड महिंद्रा के चेयरमैन ने कहा मैं हारा हुआ इंसान हूँ
Anand Mahindra with Bill GatesTwitter
Summary

फिर आयी एक याद पुरानी, कहते है तश्वीरें और गीत दोनो पुराने समय को जीवंत कर देते है, ऐसा ही कुछ हुआ महिंद्रा और महिंद्रा के चेयरमैन आनन्द महिंद्रा के साथ।

हुआ कुछ यूं कि एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने नेटफ्लिक्स पर आने वाली वेबसीरिज “इनसाइड बिल्स ब्रेन” के कुछ स्क्रीनशॉट आनंद महिंद्रा को टैग करके ट्वीट कर दिए और इसके बाद आंनद ने जो बातें बताई वो काफी भावुक कर देने वाली थी।हालांकि यहां आपको बताते चले कि भले ही आनंद महिंद्रा भारत के गिने चुने बड़े रईसों में आते हो लेकिन सामाजिक मुद्दों और जमीनी स्तर पर काम करने वालो को पहचान दिलाने में माहिर है अब चाहे वह स्कूटर पर अपनी माँ को चारों धाम घुमाने वाले बेटे को नई महंगी कार गिफ्ट देना हो या किसी गरीब को नौकरी देने वाला मामला हो, आनंद महिंद्रा भारत मे बिजनेस टायकून माने जाते है।

एक चित्र से हुई शुरुआत :

वाकया कुछ ये हुआ कि आंनद महिंद्रा को ट्विटर पर अपना एक चित्र नजर आया माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स के साथ और वह ट्विटर पर ही इसके पीछे के सारे राज खोलते चले गए, आनन्द ने इस चित्र की कहानी बताने के लिए लगातार कई ट्वीट्स किये।

आनंद पहले ही ट्वीट में यह लिखते हुए नजर आते है कि पता नही ये चित्र किसने खींचा हुआ है, लेकिन ये चित्र वास्तव में 1997 का है जब माइक्रोसॉफ्ट के कर्ताधर्ता भारत पहली बार आये थे। तब उस वक्त तक मोबाइल फोन में कैमरे का चलन ही नही था ( हालांकि आपको बताते चले उस वक्त मोबाइल का टैरिफ बहुत महंगा हुआ करता था, उस वक्त में फोन आने के भी पैसे लगते थे, करीबन 16 रुपये प्रति मिनिट )

आनंद आगे बताते है कि बिल गेट्स उन दिनों 1973 में मेरे साथ ही हावर्ड में थे। लेकिन तभी उन्होंने यूनिवर्सिटी को ड्राप कर दिया और जैसा दुनिया जानती है कि उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट की शुरुआत की इसके बाद यह मीटिंग माइक्रोसॉफ्ट ने उनके साथ रखी, विंडोज एनटी 4.0 को लेकर, महिंद्रा एंड महिंद्रा उस वक्त की पहली ऐसी सूचना प्रौद्योगिकी की कंपनी थी जिसने पहली बार विंडोज एनटी को अपनाया था।

आनंद इस मीटिंग से जुड़ा हुआ मजाकिया किस्सा सुनाते हुए लिखते है जब बिल मीटिंग में अंदर आये उन्होंने कहा मुझे विश्वास है कि आप मेरे साथ हावर्ड में थे। आनन्द ने कहा हाँ हम थे लेकिन कभी मिले नहीं। लेकिन मुझे आपके साथ एक शिकायत या समस्या है, इतना सुनकर माइक्रोसॉफ्ट की टीम को लगा कि हम किस सनकी के साथ मीटिंग करने जा रहे है (टीम को माइक्रोसॉफ्ट के बिल गेट्स की अहमियत का अंदाजा था)।

हालांकि बिल अपने चिरपरिचित शांत अंदाज में बोले, की आपको मुझसे शिकायत क्यो है ? आनंद ने बताया कि मेरी बेटी ने एक बार मुझसे पूंछा कि आपके साथ पढ़ने वाले कौन-कौन से लोग प्रशिद्ध है ? और जब मैंने अपनी बेटी को आपका नाम बताया तो उसका जवाब था "आप कितने बड़े हार खाये हुए इंसान है !! इसलिए आप को धन्यवाद आपकी वजह से मैं अपने बच्चो की नजर में एक हार खाया हुआ इंसान हूँ।

  • यहाँ आपको बताते चले कि महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप की कंपनी टेक महिंद्रा विश्व की नामी गिरामी तकनीकी प्रदाता कंपनियों में मानी जाती है, जो कई मौकों पर गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और अन्य चुनिंदा कंपनियों को सहयोग प्रदान कर चुकी है, और कुछ मामलों में एक तरह से प्रोजेक्ट पार्टनर भी रही है,इसके साथ मे ऑटोमोबाइल में तो महिंद्रा का जवाब ही नही है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com