Viral Fake Post
Viral Fake Post|Social Media
वायरल बुलेटिन

Fact Check: भारत मे अफवाहों का दौर जारी है, वेनेजुएला की तश्वीरों को इटली का बताकर पेश किया जा रहा है 

इससे पहले की हम इस मामले पर कुछ कहे उससे पहले यह समझ लेना जरूरी है कि भारत फुर्सतियों का देश है उसपर रही सही कसर कोरोना के लॉकडाउन ने पूरी कर दी अब लोगों के पास पूरा टाइम है अफवाह फैलाने के लिए

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

क्या है दावा :

सोशल मीडिया में प्रसारित तश्वीरों के आधार पर यह दावा किया जा रहा है कि इटली के लोग इस कदर कोरोना से पीड़ित है कि उन्होंने सड़कों पर पैसे फेंकने शुरू कर दिए है। सोशल मीडिया चल रही पोस्ट के अनुसार यह सिर्फ इसलिए किया जा रहा है क्योंकि जब जान ही नहीं रहेगी तब पैसे का क्या करेंगे ? लोगों के अनुसार ये पैसे उनके किसी काम के ही नहीं है।

हमने वायरल पोस्ट का स्क्रीनशॉट ज्यो का त्यों रखा है
Social Media Viral Post
Social Media Viral PostFacebook Screengrab

क्या है सच्चाई :

अब जब मामला हमारे सामने आया तो हमने इस तश्वीर में देखा कि सड़क पर नोट असलियत में फैले हुए है और इन्हें देखकर ऐसा लगता है मानो ये नोट किसी ने जानबूझकर फेंके हो। चूंकि मामला पैसे का है तो इन्हें आसानी से पहचाना जा सकता है तो सबसे पहले हमने इन्हें गूगल रिवर्स इमेज टूल के साथ इसकी पड़ताल की और जांचने पर पाया कि यह तश्वीर इटली की नहीं है बल्कि मुद्रा संकट से जूझ रहे देश वेनेजुएला की है।

सत्यता की पुष्टि के लिए हमने वेनेजुएला की मुद्रा को बारीकी से जाना और पाया कि वायरल चित्र में दिखाई गई मुद्रा वेनेजुएला की मुद्रा है और अन्य तमाम प्रचिलित मुद्रा से बराबर मेल खाती है। तो अब इससे यह साफ हो गया कि यह नोटों के फेकें जाने वाली खबर इटली की नही बल्कि यह वेनेजुएला की है। लेकिन अब यह सवाल उठता है कि ये ये तश्वीर वेनेजुएला की क्यों है। आखिर लोग वेनेजुएला में सड़कों पर पैसे क्यों फेक रहे है।

मुद्रा संकट का है कारण :

दरअसल पिछले काफी समय से वेनेजुएला मुद्रा संकट से गुजर रहा है पिछले पांच वर्षों में वेनेजुएला तेल निर्यात को लेकर वैश्विक बंधनो का सामना कर रहा है। यहाँ आपको यह बताना जरूरी होगा कि वेनेजुएला अपने कुल निर्यात में लगभग 95 प्रतिशत निर्यात केवल तेल का ही करता है जिसको लेकर वेनेजुएला धनवान होकर भी गरीब है और मुद्रा के निचले स्तर में होने के कारण हालात यहाँ तक पहुँच चुके है कि यहां एक अमेरिकी डॉलर की कीमत करीब 35 लाख वेनेजुएला के बोलिवर तक पहुँच चुकी है। कहने का मतलब यह है कि आप बाजार में बोरा भर के नोट ले जाये लेकिन उसके बाद भी आप कुछ भी खरीद कर नहीं ला सकते।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com