उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Children’s Choice School Video
Children’s Choice School Video|Social Media
वायरल बुलेटिन

सरकार की फ्री एडमिशन स्कीम से प्रबंधक का माथा गरम, अभिभावक के सामने की गाली गलौज

सरकार की फ्री एडमिशन स्कीम से प्रबंधक का माथा गरम, अभिभावक के सामने की गाली गलौज

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

प्रयागराज “जिसे पूर्व में इलाहाबाद” के नाम से जाना जाता रहा है, शिक्षा के लिए बेहद प्रशिद्धि प्राप्त है सालाना सैकड़ो की तादाद में प्रशासनिक अधिकारी यह कि शिक्षा मंडी से पूरे देश को निर्यात किये जाते है, वही एक अभिभावक के साथ विचित्र घटना घट गई, घटना इस लिए कहा जा रहा है कि जनाब स्कूल तो गए थे अपने बच्चे का एडमिशन कराने, और लौटकर आये तमाम गाली-गलौज के साथ, गाली क्यो मिली ये चर्चा का विषय है,दरअसल रमेश कुमार केशरवानी पुत्र श्री मुन्नू लाल केशरवानी अपने बच्चे उज्जवल केशरवानी का एडमिशन दिनांक 15 अक्टूबर को कराने चिल्ड्रन च्वाइस स्कूल प्रीतम नगर पहुचे, साथ मे प्रवेश दिलाने हेतु प्रार्थना पत्र था लेकिन प्रबंधक साहब किसी बात पर अल्टर हो गए और तमाम गाली गलौच कर दी, जिसमे बच्चे को मारने पीटने, किसी स्कूल में दाखिला न होने की धमकी भी थी।

Disclaimer : वीडियो को पीड़ित व्यक्ति द्वारा ही मोबाइल से शूट किया गया, और इसमें अपशब्दों की भरमार है अतः इस वीडियो को आप अपने निर्णय पर देखे। हमने इस वीडियो ज्यों का त्यों पोस्ट किया है, हमारी तरफ से इसमें कोई एडिटिंग नहीं की गयी है।

आखिर अक्टूबर में एडमिशन ?

सरकारी चोचले है साहब, एक नियम है गरीब बच्चों के एडमिशन का जिसे हर प्राइवेट स्कूल को फॉलो करना होता है, इस नियम के तहत होने वाले एडमिशन का निश्चित प्रतिशत निम्न आय वाले बच्चों का होता है, हालाँकि यह निर्धारण भी सरकारी अमला करता है कि किस गरीब बच्चे का प्रवेश होगा, इस मामले में बीएसए, उप जिलाधिकारी जैसे बड़े अधिकारियों का सीधा दखल रहता है, और चूंकि ये मामला सरकारी है तो लकी ड्रा इत्यादि में एक लंबा समय लग जाता है इसी लिए ये मामला थोड़ा लंबा हो गया।

आखिर प्रबंधक साहब इतने क्यो अकड़ गए ?

एक लंबे समय तक जब स्कूल प्रबंधन द्वारा बच्चे के एडमिशन को लगातार टाला गया जबकि दूसरे स्कूल ऐसे ही गरीब बच्चों का एडमिशन लगातार करते आ रहे है इसी चक्कर मे अभिभावक ने विभागीय कार्यवाही करने की कोशिश की इसी चक्कर मे प्रबंधक साहब का ईगो हर्ट हो गया, पीड़ित द्वारा शूट किए गए मोबाइल वीडियो में प्रबंधक साहब इस अकड़ में है कि वो जिले के मुखिया जिलाधिकारी समेत प्रदेश के मुख्यमंत्री तक को गरिया गए, वीडियो में प्रबंधक बच्चे और अभिभावक को लगातार मारने की भी धमकी देते नजर आ रहे है।

क्या हो सकती है कार्यवाही :

चूँकि अब मामला पब्लिक डोमेन में है प्रबंधक साहब की सारी रामायण सोशल मीडिया में रायते के मिर्चे की तरह तैर रही है तो निश्चित ही इनपर कार्यवाही हो सकती है बस मामले पर लीपापोती न हो, बच्चे को मारने की धमकी, अभिभावक को गाली गलौज करने में प्रबंधक साहब पर आपराधिक मामला तो बनता ही है और सरकार के दिये गए दिशा निर्देशों को न मानने पर स्कूल की मान्यता को भी तत्काल प्रभाव से रद्द किया जा सकता है।