उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Koena Mitra vs Asaduddin Owaisi Twitter War
Koena Mitra vs Asaduddin Owaisi Twitter War|Uday Bulletin
वायरल बुलेटिन

अससुद्दीन ओवैसी और कोयना मित्रा के बीच ट्विटर वॉर शुरू 

राम मंदिर मामला

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

सुप्रीमकोर्ट ने भले ही राम मंदिर/बाबरी मस्जिद के मामले पर अपना न्यायिक फैसला सुना दिया हो लेकिन राजनैतिक रोटियां सेंकने वाले नेताओं की हरकतें बंद नही हुई है, इस मामले में ओवैसी ने एक ट्वीट करके बवाल खड़ा कर दिया, इसको लेकर बॉलीवुड अभिनेत्री कोयना मित्रा ने ओवैसी को आड़े हाँथ ले लिया।

मामला अयोध्या का हो और एमआईएम चीफ ओवैसी न बोले ऐसा नामुमकिन जैसा है, हालाँकि तत्कालीन चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने ऐतिहासिक विवादित स्थल का फैसला सुनाकर इस मामले को ठंडा कर दिया, फैसले में विवादित स्थल पर मंदिर के साक्ष्य मिलने पर राम लला विराजमान को मंदिर बनाने का आदेश दिया और सुन्नी बोर्ड को मस्जिद बनाने के लिए पांच एकड़ जमीन आवंटित करने के लिए केंद्र सरकार को आदेशित किया है।

इस पर दो-चार दिन तो मामला शांत रहा, जो इस मामले में पक्षदार थे उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आदेश को शिरोधार्य कर लिया लेकिन बेहद संवेदनशील मामले पर राजनीति की रोटियां सेंकने वाले नेताओं में से एक ओवैसी ने समाज मे कलुषित भावना फैलाने वाले बयान को ट्वीट के रूप में समाज मे फैलाने की कोशिश की।

असदुद्दीन ओवैसी बाबरी मस्जिद के गिराए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट की मुखालफत करते नजर आए इसी बयान को अंग्रेजी की एक पत्रिका ने इसे अपने लेख में छापा, उसी लेख को कोट करके ओवैसी ने एक ट्वीट किया:

ट्वीट का सार यह था कि मुझे अपनी मस्जिद वापस चाहिए।

इसके बाद ट्वीट को लेकर बखेड़ा खड़ा हो गया, पक्ष और विपक्ष में तमाम लोग नसीहत देने लगे आभाष नामक यूजर ने उनको जमकर लताड़ लगाई।

ये तो तब भी ठीक था, लेकिन जैसे ही बात हाईप्रोफाइल हुई बवाल कटता गया,बॉलीवुड अभिनेत्री कोयना मित्रा ने ओवैसी के ट्वीट को रिट्वीट किया लेकिन उसके आगे कुछ शब्द लिखे जो ओवैसी को अभी तक खल रहे होगें।

कोयना मित्रा ने अपने ट्वीट में कहा कि मुझे अपने 40,000 मंदिर वापस चाहिए जो मुगल शासन काल में मुगल आक्रमणकारियो द्वारा तोड़े गए थे:

इस पर भी लोगों की मिली जुली प्रतिक्रियाएं आयी, जिंनमे किसी ने कोयना मित्रा पर बेहद गंदे और अपमान जनक ट्वीट भी किये जिनको यहाँ दिखाना उचित नही रहेगा,फिर भी कुछ ट्वीट मजेदार और तार्किक भी नजर आए:

एक ट्विटर यूजर ने बाकायदा शिकायत करते हुए कहा कि उसकी जमीन पर बिना उसकी इजाजत के मस्जिद बना कर तैयार कर दी गयी और बाकायदा स्क्रीन शॉट भी डाल दिया:

  • बात कुछ भी हो लेकिन नेताओं को संविधान और सुप्रीमकोर्ट से बड़ा बनने की कोशिश नही करनी चाहिए, क्योंकि इससे समाज मे गलत संदेश जाता है।