हमने राफेल फालतू में फ्रांस से खरीदा, हमारे पास तो पहले से ही था, बतोले चचा से सुनो पूरा किस्सा

हमने राफेल फालतू में फ्रांस से खरीदा, हमारे पास तो पहले से ही था, बतोले चचा से सुनो पूरा किस्सा
made in kanpur rafaelGoogle image

देखो भैया हमाये भारत मे टैलेंट को कमी तो कभी रही नही, हम नासा से लेकर माइक्रोसॉफ्ट तक गोला बनाकर बैठे है। हम मार्स मिशन विशन बराबर कर रहे है फिर ये एक राफेल कौन सी गिनती में आता है, हमाये पास तो पहिले ही राफेल की असली तकनीकी है और इसे शुद्ध कानुपर स्टाइल में बनाया गया है।

राफेल बनाम राफेल:

अच्छा जो राफेल मोदी जी ने फ्रांस से अम्बाला में होम डिलीवर करवाये है उनमें ऐसी कौन सी बात है जो हमारे कानपुर के राफेल में नही है, भाई कई मायनों में तो हमारे राफेल इत्ते ताकतवर है कि फ्रांस के राफेल किसी गियर में नही लगता, अरे इत्ता खर्चा करके पांच राफेल मंगवा लिए अगर इसकी जगह एक राफेल का पैसा मोदी जी हमारे हाँथ में धर देते तो हम ऐसे राफेल की पंद्रह पच्चीस फैक्ट्रियों का उद्घाटन कर देते। फिर बनते धड़ाधड़ राफेल, मजाल क्या की कोई चूचूं आंखों वाला चीन और झुट्ठा पाकिस्तान हमारी तरफ आंखे उठाकर देख लेता। हम आखों पर ही राफेल की पुड़िया फाड़कर उन्हें अंधा कर देते।

ताकत का नमूना, कानपुर के राफेल:

अब भला फ्रांस से आया हुआ राफेल किसी का कित्ता नुकसान कर सकता है एक मिसाइल या बम मार कर सैकड़ो हजारो को एक ही झटके में निबटा सकता है बस यही न, और जो हमारा राफेल है न कानपुर वाला, कसम घण्टाघर और झकरकटी बस अड्डे की एक राफेल किसी जगह की नस्लों को खराब कर सकता है। अब सुनो असल बात, पहली बात जब कोई आदमी राफेल की पुड़िया खरीदेगा तो सबसे पहले पैसों का नुकसान, दूसरा मुँह में चबायेगा तो दांतो का नुकसान, तीसरा कैंसर जैसी बहुतै बड़ी वाली बीमारियों को न्योता देगा, चौथा हमारा कानपुर वाला राफेल बहुत बड़ा लगनशील प्रोडक्ट है, एक बार जो खायेगा वो खाता चला जायेगा, फिर का बच्चा और का जवान या फिर चारपाई पे बैठे बूढे बाबा सभी बैठे-बैठे ऐसे पिचकारी मारेंगे की चीन ,पाकिस्तान और नेपाल समेत सभी देश अपने कपड़े गीले कर देंगे।

रही बात फ्रांस के राफेल और कानपुर के राफेल की तो दोनो लालम लाल करते है लेकिन अगर कंपटीशन किया जाए तो हमारा कानपुर के राफेल हमेशा आगे रहेगा अगर भरोसा न हो तो कभी कानपुर आके देख लियो।

डिस्क्लेमर : ये हमारा बतोले चाचा का मनोरंजन सेगमेंट है ,ज्यादा सिरियस होने की जरूरत नही है, लाइट हृदय से पढ़ो, आनंद आएगा

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com