उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
आलस्य 
आलस्य |WeforNews
लाइफस्टाइल

क्या है लोगों में आलस्य का कारण ? जानिये कैसें बचें इससे!

इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोगों के पास कामों की कमी नहीं हैं और कुछ लोग काम ही नहीं करते है जिससे आलस्य के शिकार होते हैं तो यहाँ जानिए इससे बचने के उपाय 

Suraj Jawar

Suraj Jawar

इस भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोगों के पास कामों की कमी नहीं हैं, कुछ लोग अपना अधिक से अधिक समय काम करने में ही खत्म कर देते हैं तो वही कुछ लोग ऐसे भी हैं जो कुछ भी करने का मन भी नही करते हैं और अंत में ऐसे लोग आने वाले समय में आलस्य का शिकार हो जाते हैं जिसके कारण उन्हें अनेको समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस तरह से ऐसे व्यक्ति अपने काम में मन नहीं लगा पाते हैं और आगे चलकर अनेकों समस्याओं का सामना करते हैं तो चलिए आज हम आपको बताते हैं आखिर वह कौन-कौन से कारण हैं जिससे लोगों के भीतर आलस्य आ जाता है और आखिर हमे क्या करना चाहिए जिससे हम आलस्य के प्रवर्ति से दूर रह सकें तो फिर बिना देर किये आगे बढ़ते हैं और जानते हैं की आखिर क्या करें जिससे आलस्य हमारे आस-पास भी न आ सके।

#1. वजन पर नियंत्रित रखें - किसी भी वयक्ति के शरीर का वजन उसकी आयु और ज़रूरत से अधिक बढ़ना आलस्य पैदा करने का सबसे बड़ा कारण माना जाता है। इसलिए सबसे पहले आलस्य से बचने के लिए अपने वजन पर नियंत्रण रखें। जब हम असंतुलित आहार लेते हैं, घर से बाहर का खाना या रेस्टोरेंट होटलों में जरुरत से ज्यादा तला भुना खाना कहते हैं तो यह खाना शरीर में ठीक से पच नहीं पाता है जिसके फलस्वरूप शरीर मे चर्बी बनती है और वजन बढ़ने लगता है। कोशिश करना चाहिए कि संतुलित आहार ही लें और अपने वजन के साथ-साथ अपनी सेहत का भी ध्यान रखें ताकि आपका शरीर स्वस्थ और आलस्य मुक्त रहे, क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ माइंड का वास होता है और अगर दिमाग मे फुर्ती रहेगी तो आलस आपसे कोसों दूर रहेगा।

#2. प्रतिदिन करें व्यायाम - यदि आप चाहते हैं कि आलस्य आपके शरीर से कोसों दूर रहे तो इस परिस्थिति में आपको अपने शरीर को पूरी तरह से स्वस्थ रखना पड़ेगा तभी आप अपने शरीर की ऊर्जा को सही तरीके से संतुलित रख पाएंगे। इसलिए रोज़ सुबह - शाम व्यायाम को अपने दिनचर्या का हिस्सा बनाने की कोशिस करें क्योंकि व्यायाम हमे आलस्य से तो छुटकारा दिलाने में मददगार तो है ही साथ ही वह हमें अपने शरीर में होने वाली बीमारियों से भी दूर रखता है।

#3. समय का करें सदुपयोग -जैसा कि जब भी हम खाली बैठे होते हैं या कहें कि हमारे पास कोई काम नहीं होता है तो हम अक्सर आराम करते हैं, जो कि स्वस्थ के लिए ज़रूरी भी है परन्तु यदि आप ज़रूरत से ज्यादा आराम करते हैं तो यह आराम आपको आलस्य का शिकार भी बना सकता है। इसलिए अपने आप को कम से कम खाली रखने की कोशिस करें और खाली समय का सही तरह से उपयोग करें। आप खाली समय में अपनी पसंद का कोई भी काम कर सकते हैं जैसे कि किताबें पढ़ना, गाना सुनना आदि।

#4. दवाइयों से बनाये रखें दूरियां - जो लोग बहुत ज्यादा दवाइयों का सेवन करते हैं उस तरह के लोग बाकी लोगों के मुकाबले बहुत जल्दी आलस्य का शिकार होते हैं। क्यूंकि दवाइयों में कुछ ऐसे रासायनिक पदार्थ भी होते हैं जिनसे हमें बहुत ज्यादा नींद आती है, और ज्यादा नींद आना यानी आलस्य को आमंत्रित करना। इसलिए हो सके तो अधिक दवाइयों के सेवन करने से बचें और अपने जीवन को आलस्य मुक्त बनायें।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा इसलिए ऐसे ही अन्य लेख पाने के लिए पढ़ते रहिये उदय बुलेटिन