प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र|Google
लाइफस्टाइल

साल के अंत मे दुनिया मे सबसे ज्यादा बच्चे पैदा होंगे, रिसर्च में किया गया दावा।

कोरोना वायरस लॉक डाउन की बजह से पूरी दुनिया की बढ़ेगी जनसँख्या।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

अजी हम मजाक करने के लिए थोड़े बैठे है, लेकिन अब जब रिसर्चर ने इस बात पर जोर दिया है तो बात सही ही होगी। अगर रिसर्च की बात माने तो इसी साल के अंत तक सभी अस्पतालों के मैटरनिटी बेड कम पड़ जाने की संभावना है। संभव है इस साल भारत मे लोग अपनी बच्चा फैक्ट्री के दरवाजे खोल दे।

क्या है रिसर्च का आधार :

ब्रिटेन की एक स्वास्थ्य गणना एजेंसी हार्ले थेरेपी के मुख्य स्वास्थ्य निदेशक डॉ शैरी जेकेबसन ने इंग्लैंड में की गयी अपनी रिसर्च के बाद यह रिपोर्ट जारी की है कि इस वक्त इंग्लैंड में नवविवाहित और अन्य पूर्व विवाहित जोड़े घरों में लॉक डाउन है। इस वजह से लोग तनाव को दूर करने के लिए शारीरिक संपर्कों को प्राथमिकता देना पसंद करेंगे। चूँकि इस वक्त में गर्भनिरोधक जैसे उपायों की सुलभता बेहद निम्न या न के बराबर है ऐसे वक्त में गर्भधारण जैसी अवस्थाओं के सामने आने की संभावनाएं ज्यादा है।

भारत मे भी आ सकता है बेबी बूम :

हालांकि यह रिसर्च भले ही ब्रिटेन में कई गयी हो, लेकिन ऐसे हालात में भारत इनसे 10 कदम आगे खड़ा मिलेगा। ऐसे माहौल में जब भारत का युवा गर्भनिरोधकों को ज्यादा तरजीह नहीं देता उस वक्त में लॉक डाउन कोढ़ में खाज जैसी स्थिति उत्पन्न करेंगा। जानकारों की माने तो भारत मे इसका असर ज्यादा देखने को मिल सकता है। चूँकि भारत मे लॉक डाउन करीब 14 अप्रैल तक किया गया है कई सरकारी और निजी कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम की पॉलिसी लागू कर रखी है ऐसे वक्त में ये आशंका व्यक्त की जा रही है कि भारत में अत्यधिक शिशु जन्मदर होने की संभावना है। जनसंख्या पर नजर रखने वालों के अनुसार भारत मे भी इसी साल के अंत मे लोग अस्पतालो में बच्चों का पिटारा खोल सकते है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com