उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
नववर्ष के आगमन पर दिल्ली में जमकर हुई आतिशबाजी
नववर्ष के आगमन पर दिल्ली में जमकर हुई आतिशबाजी|Twitter
लाइफस्टाइल

नए साल के पहले ही दिन हुई सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना, दिल्ली में जम कर आतिशबाजी हुई

नववर्ष के आगमन पर जश्न के दौरान दिल्ली-एनसीआर में जमकर आतिशबाजी हुई।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: नववर्ष (New Year Celebration) के आगमन पर जश्न के दौरान दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में जमकर आतिशबाजी हुई। प्रदूषण की गंभीर समस्या का सामना कर रही राष्ट्रीय राजधानी में कई जगह लोग उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) द्वारा निर्धारित समय सीमा के पहले और बाद में भी पटाखे फोड़ते हुये नजर आए।

केंद्र सरकार द्वारा संचालित वायु गुणवता एवं मौसम पूर्वामुमान प्रणाली (सफर) ने सोमवार को आगाह किया था कि खुले में अलाव जलाने या आतिशबाजी के कारण, वायु में प्रदूषण और अधिक हो जाएगा, जिससे हवा की गुणवत्ता में तेजी से गिरावट आ सकती है। यहां तक कि प्रदूषण अत्यंत गंभीर श्रेणी में भी पहुंच सकता है।

आपको बता दें की, आतिशबाजी वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) के आंकड़ों के अनुसार, प्रमुख प्रदूषक PM 2.5 और PM 10, लोधी रोड क्षेत्र में क्रमशः 470 और 443 पर हैं।

आतिशबाजी को लेकर दिए गए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए क्रिसमस (Christmas) और नए साल (New Year Celebration) की पूर्व संध्या से पहले केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi-NCR) , नोएडा और गुरुग्राम के जिलाधिकारियों और दिल्ली पुलिस को पत्र लिखा था। लेकिन चेतावनी के बावजूद, कई जगहों पर शीर्ष अदालत के आदेश का उल्लंघन हुआ।

उल्लंघन की घटनाओं की संख्या हालांकि तत्काल उपलब्ध नहीं हो सकी। उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने क्रिसमस (Christmas) और नए साल (New Year Celebration) की पूर्व संध्या पर जश्न को लेकर आदेश दिया था कि नव वर्ष (New Year Celebration) का जश्न आधी रात से शुरू होता है इसलिए रात 11 बज कर 55 मिनट से लेकर 12 बज कर 30 मिनट तक केवल हरित पटाखे फोड़ने की अनुमति होगी।

अक्तूबर से दिल्ली में प्रदूषण का स्तर चिंताजनक बना हुआ है। पिछले दस दिन से तो राष्ट्रीय राजधानी (Delhi NCR) में वायु की गुणवत्ता लगातार हानिकारक बनी हुई है।