उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Shabana Azmi
Shabana Azmi|Image source: BBC
मनोरंजन

महिला सशक्तिकरण पर शबाना आज़मी ने दिए अपने विचार  

नारी जितनी अधिक सशक्त, समाज उतना ज्यादा सशक्त व संगठित : शबाना 

Sneha Sinha

Sneha Sinha

नई दिल्ली : प्रसिद्ध अभिनेत्री और पद्मभूषण से सम्मानित शबाना आजमी ने कहा कि किसी भी समाज में नारी जितनी अधिक सशक्त होंगी, वो समाज उतना अधिक सशक्त और संगठित होगा। शबाना ने रविवार को महिला सशक्तिकरण पर आधारित एक विशेष कार्यक्रम 'अस्मिता' में ये बातें कही। इस कार्यक्रम का आयोजन फाउंडेशन फॉर मैनेजमेंट रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एफ.एम.आर.टी.) ने किया था।

आईएएनएस के हवाले से पता चला की कार्यक्रम की मुख्य अतिथि शबाना ने कहा, "हालांकि स्त्री और पुरुष एक दूसरे के पूरक हैं, लेकिन फिर भी अलग-अलग देखा जाए तो स्त्री को प्रकृति ने अधिक शक्तिशाली बनाया है। इसका सीधा उदाहरण है कि जहां पुरुष केवल अपने प्रोफेशनल जीवन में तरक्की करके संतुष्ट हो जाते हैं, वहीं महिलाएं अपने प्रोफेशनल दायित्वों का निर्वाह करते हुए परिवार के प्रति अपने सभी कर्तव्यों को भी लगातार निभाती रहती हैं । महिलाओं की प्राथमिकता जहां एक ओर उनकी प्रोफेशनल प्रतिबद्धता होती है वहीं दूसरी ओर उनको अपने बच्चों के सम्पूर्ण विकास और उनके कैरियर के प्रति भी पूरी तरह से सजग और बच्चों के साथ लगातार संवाद भी करते रहना होता है ।"

इस अवसर पर शिक्षाविद व एफ.एम.आर.टी प्रमुख डॉ. ज्योति राणा ने कहा, "एफएमआरटी ना केवल महिला सशक्तिकरण का एक मजबूत मंच बन चुका है बल्कि नेतृत्व, रिसर्च और मोटिवेशनल कार्यशालाओं के माध्यम से आज की युवा पीढ़ी में विशेषकर महिलाओं ने सबसे ज्यादा जागरूकता लाने के लिए प्रयास किया है और कही न कही औरतो को हर कर्तव्य में पूरक होना चाहिए। “

इस अवसर पर मौजूद प्रमुख वक्ताओं में से एक विश्व प्रसिद्ध कथक नृत्यांगना व पद्मश्री शोभना नारायण ने कहा, "यह आवश्यक है कि औरों से पहले आप स्वयं के प्रति सच्चे हों। स्वयं के प्रति सच्चा होना आपको अंदर से मजबूत बनाता है और आप किसी भी क्षेत्र मे आगे बढ़ने से हिचकिचाते नहीं हैं। अपने प्रति सच्चा होना ही हमें सशक्तिकरण की ओर ले जाता है ।"