अंकिता लोखंडे ने बताया किसके नाम पर हैं फ्लैट और कौन चुकाता हैं उसकी ईएमआई
अंकिता लोखंडे ने फ्लैट से जुडी जानकारी शेयर की, कहा इसके अलावा कहने को कुछ भी नही
अंकिता लोखंडे ने बताया किसके नाम पर हैं फ्लैट और कौन चुकाता हैं उसकी ईएमआई
Ankita Lokhande and Sushant Singh RajputGoogle Image

सुशांत की रहस्यमय मौत को लेकर आये दिन नए खुलासे हो रहे है जिससे यह केस पहले से कहीं ज्यादा उलझाऊ होता जा रहा है। अब इस केस में सीबीआई के आने के बाद से मामले की पर दर परत उखड़नी शुरू हो गयी है वहीं प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस मामले में सनसनीखेज बयान देकर माहौल गर्म कर दिया था।

अंकिता लोखंडे के फ्लैट की ईएमआई सुशांत के खाते से जाती थी:

इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय के द्वारा लगातार सुशांत के खातों में हुए हेरफेर के मद्देनजर जांच की जा रही है इसी दौरान ईडी ने यह बयान जारी किया कि सुशांत के खातों से पैसा किसी फ्लैट ( जो कि सुशांत के नाम पर रजिस्टर है) की ईएमआई के तौर पर जा रहा है और ईडी ने यह भी बताया कि यह फ्लैट वर्तमान में सुशांत की पूर्व गर्लफ्रैंड अंकिता लोखंडे के द्वारा उपयोग में लाया जा रहा है। इस बयान के बाद तो इस मामले में नया मोड़ नजर आने लगा। लेकिन अब इस बयान के विपरीत अंकिता ने सोशल मीडिया पर कुछ दस्तावेज पोस्ट करके अटकलों पर विराम लगा दिया है।

क्या है तस्वीरों में ?

अंकिता ने ट्विटर पर फ्लैट के लिए EMI के बारे में जानाकरी उपलब्ध कराई है तथा यह भी कहा गया है कि इस मामले में पारदर्शिता होनी चाहिए। अंकिता ने ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी है कि उसके वह जिस फ्लैट में रहती है वह उनके ही नाम पर है जिसे अंकिता ने 10 मई 2013 को सावित्री देवी गुप्ता से एक करोड़ पैंतीस लाख रुपये में खरीदा था। सनद रहे कि इस फ़्लैट को खरीदने में लोन लिया गया था जिसकी ईएमआई उनके खाते से लगातार कट रही है। सुशांत और अंकिता ने दो अलग-अलग फ्लैट ख़रीदे थे।

Ankita Lokhande’s flat Sale Agreement in Malad
Ankita Lokhande’s flat Sale Agreement in MaladUday Bulletin
मालाड बिल्डिंग में सुशांत सिंह राजपूत और अंकिता लोखंडे की नेम प्लेट
मालाड बिल्डिंग में सुशांत सिंह राजपूत और अंकिता लोखंडे की नेम प्लेटUday Bulletin
Sushant Singh Rajput’s flat Sale Agreement in Malad
Sushant Singh Rajput’s flat Sale Agreement in MaladUday Bulletin

कुल मिलाकर अगर अंकिता के सुबूत सही निकलते है तो सबसे बड़ा सवाल ईडी पर खड़ा होता है कि इतनी जिम्मेदार एजेंसी ऐसे अनर्गल बयान कैसे दे सकती है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com