मिर्जापुर 2 वेब सीरीज को हुआ बहुत बड़ा नुकसान, रिलीज़ होते ही कालीन भैया की कालीन फैल गयी

मिर्ज़ापुर सीजन 2 के आते ही ट्विटर पर टेलीग्राम ट्रेंड करने लगा और सोशल मीडिया में टेलीग्राम को लेकर मीम्स बनने लगे इसके साथ ही लोगों द्वारा टेलीग्राम ऐप्प को खूब डाउनलोड भी किया जा रहा है।
मिर्जापुर 2 वेब सीरीज को हुआ बहुत बड़ा नुकसान, रिलीज़ होते ही कालीन भैया की कालीन फैल गयी
Mirzapur Season 2 Leaked Uday Bulletin

मिर्ज़ापुर सीजन 2 के आते ही लोगों में इस दमदार सीरीज को देखने की होड़ मच गयी है लेकिन इसका फ़ायदा अमेज़न प्राइम से ज्यादा टेलीग्राम ऐप्प को हो रहा है। इसकी सबसे बड़ी वजह अमेज़न प्राइम का सब्सक्रिप्शन से बचना है। टेलीग्राम की मदद से अमेज़न प्राइम पर आने वाले मिर्जापुर सीजन 2 को डाउनलोड किया जा सकता है।

लोगों द्वारा मिर्जापुर के नए सीजन को लेकर मीम्स भी बनाये जा रहे है

लोगों ने कहा पूरा प्रबंध है

टेलीग्राम का नाम सुना है?

अमेजॉन प्राइम नहीं टेलीग्राम ही काफी है:

दरअसल 23 अक्टूबर 2020 को रिलीज़ होने वाले मिर्जापुर सीजन 2 के रिलीज़ के पहले ही लोगों ने यह कहना शुरू कर दिया है कि लोगों को अमेजॉन प्राइम वीडियो के सब्सक्रिप्शन की जरूरत नहीं है, इसके लिए आप टेलीग्राम एप डाउनलोड करके भी पूरा का पूरा सीजन मुफ्त में देख सकते है। दरअसल यह पायरेसी का बेहद अनोखा रूप है जहां पर इंडिविजुअल तरीके से सैकड़ों हज़ारों लोगों के द्वारा तमाम डिजिटल कंटेंट को डाउनलोड करके मनोरंजन किया जा सकता है। मजे की बात यह है कि ऐसा करने के लिए आपको सिर्फ कंटेंट डाउनलोड करने के लिए डेटा खर्च करना पड़ेगा। अब ये हुई न पक्क़ी वाली बचत।

Mirzapur season 2 leaked on Telegarm
Mirzapur season 2 leaked on Telegarm Uday Bulletin

कानूनी रूप से है गलत:

अगर आपको लगता है कि ये बेहद सरल और सस्ता है और आप ऐसे माध्यमों से लोगों को फ़िल्म या वेब सीरीज उपलब्ध करा सकते है तो आप बेहद गलत है, किसी फ़िल्म या वेब सीरीज के निर्माता का भारी भरकम पैसा और कड़ी मेहनत उसकी फ़िल्म या वेब सीरीज में लगी होती है और एक बार इंटरनेट पर फ़िल्म के जाने से ही उसकी कमाई पर बहुत ज्यादा असर पड़ता है इसके लिए सरकार ने पहले से बने कानूनों में बदलाव करके और ज्यादा सख्त बनाया है, अगर आप किसी कंटेंट को बिना निर्माता की अनुमति के इंटरनेट पर डालते है तो आपको सिनेमेटोग्राफ एक्ट 1955 के नए बदलाव के तहत 10 लाख का जुर्माना और तीन साल की जेल या फिर गंभीरता ज्यादा होने पर दोनो हो सकती है

क्या है टेलीग्राम:

टेलीग्राम एक सीधा साधा मैसेंजर एप है व्हाट्सएप की तरह, शुरुआत में इसके स्वदेशी होने का शिफुगा छेड़ा गया था लेकिन असल मे यह एप भी भारतीय नहीं है जिसका हेडक्वार्टर लंदन में है और ऑपरेशनल तौर पर दुबई (यूनाइटेड अरब अमीरात) में इसके ऑपरेशनल सेंटर बनाये गए है। इसकी खासियत है कि यह भारी भरकम फाइल को भी लोगों के पास पहुँचा सकता है

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com