कंगना पर महाराष्ट्र सरकार खुलकर सामने आ चुकी है, बीएमसी को मोहरा बनाकर किये जा रहे है हमले

बीएमसी के साथ महाराष्ट्र सरकार ने कंगना रनौत के ड्रग पैडलर से संबंध होने का दावा किया है। आरोप महाराष्ट्र सरकार के मंत्री अनिल देशमुख ने लगाए हैं लेकिन कंगना ने इस बार भी करारा जवाब दिया है।
कंगना पर महाराष्ट्र सरकार खुलकर सामने आ चुकी है, बीएमसी को मोहरा बनाकर किये जा रहे है हमले
kangana ranautGoogle Image

बीएमसी ने कंगना के ऑफिस निर्माण में अनियमितता पाए जाने की बात कहकर कंगना को नोटिस थमा दिया इस पर कंगना ने पहले ही आशंका जाहिर की थी। कंगना के अनुसार " वो मेरे सपने को तोड़ना चाहते है, लेकिन कानूनन मैंने कोई गलत काम किया ही नही, सो मुझे को भय नही है। लेकिन यह भी सच है कि महाराष्ट्र सरकार मुझे बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

कंगना ने नोटिस के बारे मे जानकारी उपलब्ध कराई है:

कंगना ने दिया कानूनी जवाब:

कंगना ने बीएमसी के कदम को पूर्वाग्रह से जुड़ा हुआ बताते हुए पहले भी कहा है कि बीएमसी एक साजिश के तहत मुझ पर मोहरा बनकर कार्यवाही कर रही है। हालांकि बीएमसी के नोटिस को कानूनी जवाब दिया जा रहा है ताकि बीएमसी के ऑफिस गिराने के प्लान पर रोक लगाई जाए।

अनिल देशमुख ने कहा ड्रग पैडलर से है संबंध:

कंगना और वर्तमान महाराष्ट्र सरकार के बीच तकरार खत्म न होकर अब बेहद निजी होती जा रही है। संजय राउत के द्वारा कंगना को हरामखोर कहने के बाद अब महाराष्ट्र ग्रह मंत्रालय के द्वारा कंगना के ड्रग से जुड़े हुए मामले में जांच शुरू कर दी है। इससे पहले ग्रह मंत्री ने अध्ययन सुमन को कंगना द्वारा जबरजस्ती ड्रग दिलाने की बात कही थी।

हालांकि इस मामले में कंगना ने भी मुंहतोड़ जवाब देते हुए ट्विटर पर गृह मंत्री को टैग करते हुए जवाब दिया है, जिसमे कंगना ने कहा है कि:

"वह खुश है कि ये जांच हो रही है, उसका खुद का ड्रग टेस्ट और काल रिकार्ड खंगाले जाने चाहिए, अगर उनका कोई संबंध किसी ड्रग पैडलर के साथ मिलता है तो वह मुंबई छोड़ने के लिए तैयार है"

कंगना रनौत बनाम महाराष्ट्र सरकार की मौजूदा लड़ाई में, राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने मंगलवार को कंगना के उस कथित बयान पर जांच के आदेश दिए, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह ड्रग्स का सेवन करती हैं।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com