Actor Irrfan Khan Death
Actor Irrfan Khan Death|Uday Bulletin
बॉलीवुड बुलेटिन

“मदारी” बस यूं ही चला गया, ऐसा लगा मानो एक क्षण के लिए सब कुछ खो गया 

53 साल के इरफ़ान खान लंबे समय से एक दुलर्भ किस्म के कैंसर से जंग लड़ रहे थे। इरफान खान को सन 2018 में न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर हुआ था। उनके परिवार में पत्नी सुतापा और दो बेटे बाबिल और अयान हैं।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

अब इसे अदाकारी की उच्चतम दशा कहे या आम जनमानस को छूता हुआ अभिनय, लोग इरफान को मात्र ऐसा एक्टर नही मानते थे जो सिर्फ पर्दे पर अभिनय करता था बल्कि इरफान उन अभिनेताओं में शुमार थे जिनका हर काम अभिनय था। जुबान से निकला हर शब्द डायलॉग, आज के ही दिन इस मदारी ने दुनिया भर को अपना खेल दिखाकर अपनी पोटली समेट ली। और सिर्फ बचा तो उनका अभिनय, याद जो सदियों तक रहेंगी" आज के दिन ही इरफान इस दुनिया को छोड़ गए।

इरफान अब नही रहे :

भला 54 साल की उम्र भी कोई उम्र होती है ? लेकिन ये सच है कि भयानक बीमारी से लड़ने जूझने के बाद इरफान ने इस दुनिया को अलविदा कर दिया। इससे पहले वो रेयर टाइप का कैंसर और ट्यूमर न्यूरोएंडोक्राइन से जूझ रहे है जिसका उन्होंने लंबे समय तक विदेश में इलाज कराया हालांकि इरफान जैसे ही भारत लौटे उन्होंने पूरी शिद्दत के साथ हिंदी मीडियम फ़िल्म के सीक्वल अंग्रेजी मीडियम की शूटिंग को पूरा किया। इससे पहले कि इरफान की फ़िल्म रिलीज होती या फिर ट्रेलर आता। उससे पहले ही इरफान ने सभी फैन और चहेतों से संवाद किया वो भी एक ऑडियो की शक्ल में और अगर आज के संदर्भ में उस मैसेज को सुना जाए तो सारा मतलब समझ मे आजायेगा। उस ऑडियो को सुनकर लगता है मानो इरफान भविष्य देख रहे थे लेकिन पूरा का पूरा मैसेज पॉजिटिवनेस से भरा हुआ।

वीडियो देखें:

अदाकारी में माइल स्टोन :

अगर इरफान की फिल्मों में की गयी अदाकारी को देखा जाए तो शायद ही कोई ऐसी फिल्म मिले जिसने दर्शकों के दिल मे जगह न बनाई हो। इरफान की फिल्में बिना नाचने कूदने के होने के बावजूद भी दर्शकों के मन मे घर बना लेती थी, फिर चाहे वह मकबूल हो, या फिर फ़ौज का बागी सूबेदार पान सिंह तोमर, सभी फिल्मों में इरफान बेहतर तरीके से जंचे है फिर चाहे वह मुख्य नायक का रोल हो या खलनायक का।

प्रधानमंत्री मोदी ने इरफान की मृत्यु पर गहरा दुख व्यक्त किया:

अजय देवगन ने इरफान की मृत्यु पर गहरा दुख जताया

बेहद अलग व्यक्तित्व :

अगर इरफान के निजी जीवन की चर्चा करें तो शायद इरफान से बेदाग और गुटनिरपेक्ष अभिनेता देखने को नहीं मिलता चूँकि इरफान रंगमंच से जुड़े हुए अभिनेता थे और साथ ही एनएसडी से निकले हुए भी तो उनका झुकाव कमर्शियल फिल्मों की अपेक्षा आर्ट सिनेमा की तरफ ज्यादा था। शायद यही कारण है कि इरफान कई मौकों पर कमर्शियल फिल्मों में भी अपने किरदार को आर्ट की तरह जीते नजर आते है।

राजनेता उमर अब्दुल्ला ने भी इरफान को याद किया

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com