उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
 शिवराज सिंह चौहान और राहुल गांधी 
शिवराज सिंह चौहान और राहुल गांधी |Social Media
चहल पहल

मामा जी,जो भारतीय रिश्ते में सबसे पावरफुल माने जाते हैं ! 

परिवार के सबसे ताकतवर लोगों में ‘मामा’ का नाम शामिल !

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

सदियों से भारतीय परंपरा में रिश्तों की बेहद मजबूती रही है, पूरा भारतीय समुदाय भले ही वह किसी जाति और धर्म से हो वह रिश्ते में बराबरी से बंधा हुआ नजर आता है, रिश्ते भारतीय परिवेश की वह मजबूत डोर है जो इस देसी और आज के हाई लेवल के समाज को बांधे हुए है,जीजा जी फूफ़ा जी , साले साहब और समधी-समधन पता नहीं कितने रिश्ते भारतीय समाज में जीवंत हैं। इन्हीं रिश्तों में से एक परम वैभवशाली , अपार महिमामयी रिश्ता और पद नाम “मामा “ का तार्किक विश्लेषण किया जा रहा है।

जनाब त्रेतायुग से लेकर कलियुग तक मामा शब्द बेहद शक्तिशाली इमेज बन कर उभरी हुई मिलती है। त्रेता युग में मामा मारीच जिसने सीता अपहरण की स्क्रिप्ट लिखी और राम रावण युद्ध का मुख्य और मजबूत कारण बना, वहीं दूसरे युग मे मामा शकुनि महाभारत जैसे सबसे विध्वंसकारी युद्ध के पटकथा रचयिता माने जा सकते हैं। वहीं कलियुग के आरंभ में बुंदेलखंड के सबसे शक्तिशाली साम्राज्य महोबा को तहस नहस करने में जो भूमिका उरई के मामा माहिल ने निभाई वो इतिहास में दर्ज है।

कुल मिलाकर मामा इस समाज का सबसे ज्वलंत प्राणी है, यह कभी भी अपना पांसा डाल कर अपना लक्ष्य बदल सकता है। शक्ति संपन्नता में चुकी यह गृहमंत्री का भाई और दामाद का साला होता है इस कारण से उसे संविधान से अतरिक्त विधायी शक्तियां प्राप्त होती है, जो अपने बहिन के नजदीक होने पर आपातकाल के जैसे ही और बलवती सिद्ध होती है।

किसी भारतीय परिवार में शादी ब्याह का मौका हो और मामा की उपस्थित न हो ऐसा होने के चांस सर्फ न के बराबर है ,भांजा-भांजी का ब्याह हो और रायते में तैरते हुए मिर्च के बीजे की तरह मामा न घूमे तो वह विवाह असफल माना जा सकता है।

शादी ब्याह के मौके पर मामा की पहचान के कुछ तरीके है जिस से इस सार्वभौमिक प्राणी की पहचान हो सकती है -

  • यह महामानव बहिन के यहां ज्यादा टीप टॉप नहीं दिखाई देगा, हाफ टी शर्ट और फुल लोवर अथवा तौलया के साथ अद्दभुत कॉम्बिनेशन में देखा जा सकता है।
  • चितभंग, अल्हड़ मस्त मौला घूमता हुआ व्यक्ति भी मामा हो सकता है।
  • अगर व्यसनी है तो मुँह में देशावरी पान के साथ सूखी सुपारी कतरते हुए भी हर जगह नजर आ सकता है।
  • हलवाइयों के पास अद्भुद ज्ञान फेकने वाले व्यक्ति की शिनाख्त कीजिये , संभव है वह मामा हो।
  • अगर कोई व्यक्ति अपने घर मे होकर अपनी पत्नी के समक्ष किसी व्यक्ति द्वारा हड़काया जा रहा हो तो अधिकतर चांस है कि वह मामा ही हो जो अपने जीजा को खोपचे में ज्ञान पेल रहा हो।

मामा से याद आया कि मामा जी ने देश के सबसे ज्यादा क्षेत्रफल वाले राज्य में लंबे समय पर राज्य किया है और इसकी मुख्य वजह थी मामा बन जाना। जैसे ही शिवराज चौहान मामा बने तो पूरे प्रदेश में अधिपत्य से जमा लिया, हालांकि मामा तो राहुल गांधी भी हैं, लेकिन उनका सबसे ज्यादा समय उनके खुद के भूमिपुत्र बहनोई को डिफेंड करने में निकल जाता है।

मामा भाषागत तरीके से दो माँ शब्दों के जोड़ से बना है। मामा का स्नेह किसी मायने में भांजे-भांजियों के लिए माँ से कम नहीं होता। सदैव कष्ट और दुख-सुख में मामा तत्पर रहता है जो कि संबंधों को और प्रगाढ़ करता है।

Summary

नोट: सामाजिक ताने बाने को मजाकिया ढंग से प्रस्तुत किया गया है। किसी भी व्यक्ति समुदाय को ठेस पहुंचाने का प्रयास नहीं किया गया है, क्योंकि मामा हमारे भी हैं और हम भी किसी के मामा है।