उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Cricket Bat
Cricket Bat|Google image
चहल पहल

अथ श्री बल्ला कथा: बल्ले को वर्तमान समय का चक्र सुदर्शन माना जा सकता है

सावधान ! बल्ले का प्रयोग अब खेल के मैदान के अलावा कहीं भी हो सकता है,

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

एक समय था जब भारत मे हॉकी को गुंडागर्दी का पर्याय माना जाता था, गाहे बगाहे आपको दो चार लौंडे लपाटे हॉकी स्टिक लिए हुए दूसरों को कूटते हुए नजर आ जाते थे , लेकिन जैसे ही लोगों के दिल से हॉकी का खुमार उतरा , हम अपने देश के राष्ट्रीय खेल हॉकी को ऐसे भूलते गए जैसे कोई अनचाही मुहब्बत, खैर आना जाना तो लगा ही रहता है ,और अब समय है बल्ले का , अपने आस-पास गौर से देखिए बल्ले के सिवाय कुछ नजर भी आता है ?

बल्ले का उल्लेख भले ही वैदिक पुराणों में ना हुआ हो, लेकिन इंद्र का वज्र देखने में बल्ले जैसा ही दिखाई देता है, अगर देवासुर संग्राम में देवता विभिन्न अस्त्रों की जगह बल्ले का प्रयोग करते तो विजय श्री बहुत जल्दी प्राप्त हो जाती, कभी-कभी तो मुझे लगता है कि परम महावीर हनुमान जी को भी कीमती और अदभुत अस्त्र गदा की जगह महिमामय बल्ले का प्रयोग करते तो मेघनाद और कुंभकरण को शोएब अख्तर की बाल की तरह पीट सकते थे!

अगर गीध राज जटायु अपने नाखूनों की जगह रावण के साथ युद्ध मे बल्ले को प्रयोग करते तो तो रावण की कुटाई हवा-हवाई क्रिकेट की तरह की जा सकती थी, अगर लक्ष्मण जी मेघनाद को स्टंप और बल्ले से वीरगति देते तो मामला कुछ और रोमांचक होता !

उसी परम प्रतापी बल्ले को कपिल देव ने मैदान पर प्रयोग करके विश्व कप का प्याला भारत को सौंपा, धोनी और विराट जैसे महारथी भी इसी बल्ले के दम से विश्वपटल पर छाते हुए नजर आए, उसी परम शक्तिशाली बल्ले को राजनैतिक गलियारे में भी समुचित प्रयोग करके नेता जी अपार यश और बल प्राप्त करके चिर प्रशिद्ध हुए !

इसी बल्ले ने नगर पालिका के शिल्पी अभियंता को पीटने के बाद भी यश की प्राप्ति कराई, उन्हें रातोंरात सितारा बना कर छोड़ दिया, अगर आप रास्ते मे जा रहे है और आप को पीछे से आकर कोई व्यक्ति कूट दे तो आप घबराए नही , ये अच्छे भविष्य का धोतक है

इस बल्ला कथा को जो भी श्रोता तीन स्टंप और लेदर बाल को लेकर भक्ति पूर्वक श्रवण करेगा ,वह निश्चित ही निकट भविष्य में उच्च स्थान को प्राप्त करेगा

नोट:व्यंग्य को केवल मनोरंजन के तौर पर लिया जाए , किसी भी प्रकार से धार्मिक भावनाएं आहत करने का प्रयास नही किया गया है