उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
 उत्तर प्रदेश के मुख्यम्नत्री योगी आदित्यनाथ
उत्तर प्रदेश के मुख्यम्नत्री योगी आदित्यनाथ|IANS
देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को महंगी पड़ी भगवान हनुमान पर टिप्पणी, निर्वाचन आयोग करेगा कार्यवाही 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजनीतिक लाभ के लिए लोगों की सांप्रदायिक सद्भावना को ठेस पहुंचाया, अब होगी कार्यवाही  

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

जयपुर: उत्तर प्रदेश के मुख्यम्नत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा भगवान हनुमान पर की गई टिप्पणी के बाद विवाद बढ़ता जा रहा है। हिंदू भगवान हनुमान को दलित कहकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हिन्दू व दलित दोनों के निशाने पर आ गए हैं। उन्होंने राजनीतिक लाभ के लिए लोगों की सांप्रदायिक सद्भावना को ठेस पहुंचाया है।

कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग से मुख्यमंत्री के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया है। निर्वाचन आयोग को दी गई शिकायत में कांग्रेस ने आदित्यनाथ पर राजस्थान में सांप्रदायिक सद्भावना को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया।

कांग्रेस के राज्य महासचिव सुशील शर्मा के अनुसार, आदित्यनाथ ने मंगलवार को अलवर में हनुमान पर बयान देकर हिंदुओं की भावनाओं को आहत किया है।"

उन्होंने कहा, "राजस्थान में अपने अभियान के दौरान योगी के भड़काऊ भाषण विभिन्न समुदायों के लोगों को विभाजित कर सकते हैं। इसलिए कांग्रेस ने आचार संहिता का उल्लंघन करने के मामले में उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करने के लिए निर्वाचन आयोग से संपर्क किया है।"

शर्मा ने निर्वाचन आयोग से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के आगे से प्रचार करने पर रोक लगाने का आग्रह भी किया है।

आदित्यनाथ के बाद केंद्रीय राज्य मंत्री सत्यपाल चौधरी ने दावा किया कि हनुमान आर्य थे।

सर्व ब्राह्मण समाज के अध्यक्ष सुरेश मिश्रा ने कहा कि इस तरह से जातिगत तौर पर भगवान हनुमान का वर्गीकरण निंदाजनक है और इसे बर्दाश्त सहन नहीं किया जा सकता है।

उन्होंने कहा, "तो हम एक नया अभियान शुरू कर रहे हैं - 'हनुमानजी का अपमान, नहीं सहेगा राजस्थान।"'

ब्राह्मण समाज के अध्यक्ष श्री मिश्रा ने बताया कि संगठन ने बुधवार को हनुमान को दलित कहने पर आदित्यनाथ को कानूनी नोटिस भेजकर उनसे माफी मांगने की मांग की थी। ऐसा नहीं करने पर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी।

आपको बता दें कि, राजस्थान विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिन्दुओ के भगवान हनुमान को दलित बताए था। जिसके बाद यह विवाद शुरू हुआ है।

--आईएएनएस