Pratapgarh Police
Pratapgarh Police|Uday Bulletin
देश

यादव दरोगा जी को ब्राम्हणों से बेहद नफरत है, काल रिकॉर्डिंग में हुआ खुलासा

समाज में सबको बराबर की नजर से देखने और भेदभाव न करने की शपथ लेने वाले जब जाति के आधार पर जनता के साथ भेदभाव और प्रताड़ित करने लगे तो ऐसे सरकारी अधिकारियों को नौकरी में रहने का हक कैसे है?

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

सरकार और पुलिस विभाग के लिए सभी वर्ग और समुदाय बिल्कुल एक नजर के होने चाहिए लेकिन पिछले कुछ दिनों से उप्र में जातिगत हिंसा बढ़ी है, इस बार का मामला उप्र के प्रतापगढ़ से सामने आया है जिसमे दरोगा साहब जातिगत द्वेष से प्रेरित नजर आ रहे हैं।

क्या है मामला ?

क्या होगा अगर आप किसी समस्या को लेकर उत्तर प्रदेश पुलिस के पास जाएँ और मदद की जगह माँ बहिन की गलियां मिले वो भी जातिगत संबोधन के साथ। मामला उत्तर प्रदेश के जिला प्रतापगढ़ से जुड़ा हुआ है मामला कुछ यूं है कि एक व्यक्ति ने एसओ विनोद कुमार यादव से अपनी बहन के साथ हुई मारपीट के बारे में फोन करके मदद मांगी। लेकिन जैसे ही दरोगा जी को पता चला कि महिला के साथ मारपीट करने वाला व्यक्ति महिला का पति ही है और साथ ही दोनों पक्ष ब्राह्मण है तो दरोगा जी का पारा चढ़ गया और अपनी भाषा मे पुलिसिया शब्दों का प्रयोग करना शुरू कर दिया ( हम यहां पर भाषा का स्तर बनाये रखने के लिए इन शब्दों का प्रयोग नही कर सकते।

ऑडियो वायरल होने के बाद हुई कार्यवाही:

मामले का खुलासा तब हुआ जब पीड़ित ने संभावना को देखते हुए अपने मोबाइल पर काल रिकार्डिंग की सुविधा कर रखी थी जिसकी वजह से दरोगा जी की मानसिक कुंठा बाहर निकल कर सबके सामने आ गयी और मामला बिगड़ गया। हालांकि मामले को बढ़ता देख जिला पुलिस अधीक्षक ने दरोगा विनोद कुमार यादव को तत्काल प्रभाव से लाइन अटैच कर दिया और खुद मामले की जांच करने की बात कही है। हालांकि पुलिसिया जांच पर कितनी कार्यवाही होगी इसका लोगों को अंदाजा है। जाति विशेष के लिए ऐसे गंदे शब्द बोलने से दुखी पूरे समुदाय के लोगों का कहना है कि दोषी दरोगा को पुलिस की नौकरी से तत्काल बर्खास्त किया जाए और जेल भेजा जाए। ऐसी कुत्सित मानसिकता के लोगों को पुलिस विभाग जैसे महत्वपूर्ण विभाग में रहने का कोई हक नहीं है।

हालांकि जब मामले की जानकारी के लिए सीओ महोदया से संपर्क करने की कोशिश की गई यो अधिकारी द्वारा फोन नहीं उठाया गया, यही प्रक्रिया आरोप दरोगा जी के नंबर पर भी हुई।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com