उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Vijay Pal Baghel The Green Man in Banda
Vijay Pal Baghel The Green Man in Banda|Uday Bulletin
देश

गाजियाबाद के ग्रीन मैन का बाँदा हुआ आगमन, तैयार हुई रूपरेखा

बुंदेलखंड इस समय अपनी दिशा और दशा देखकर हरित क्रांति की ओऱ बढ़ रहा है, प्रकृति के सानिध्य में जाने के लिए उत्सुक है, इसी मामले में एक और जाना पहचाना नाम इस क्रांति में जोड़ा गया है

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

मामला ग्रीन मैन के नाम से मशहूर विजयपाल बघेल से जुड़ा हुआ है, वो विगत दिन ही बाँदा में आये है ,जिनका पूरा जीवन हर प्रकार से हरियाली के लिए समर्पित है, इन्होंने अपने जीवन के करीब पैंतालीस वर्ष प्रकृति को सौप दिए, और आगे का जीवन भी इसी हरियाली के लिए उपलब्ध रहेंगे।

सवा सौ करोड़ पौधे रोपने का है लक्ष्य :

विजयपाल बघेल इन दिनों अपनी महत्वाकांक्षी योजना सवा सौ करोड़ पौधे रोपने को लेकर बुंदेलखंड प्रवास पर है, इन्होंने बाँदा, चित्रकूट, मध्यप्रदेश के जिला छतरपुर अंतर्गत आने वाली तहसील गौरिहार में कुछ स्थान प्रस्तावित किये है, जिन्हें "नेशनल मेमोरियल फारेस्ट गार्डन" के नाम से विकसित किया जाएगा , इस गार्डन की विशेष बात यह रहेगी कि स्थानों बागों, और पौधों को वीर हुतात्माओं , शहीदों के नाम दिए जाएंगे, ताकि लोग लंबे समय तक अपने पुरोधाओं के साथ हरियाली को जिंदा रख सके।

बाँदा के होटल में हुई मीटिंग :

बाँदा के होटल राजगृह में ग्रीनमैन ने अपने वालंटियर्स निर्धारण के अलावा अपने सहयोगियों को भविष्य की भावी समस्याओं के बारे में अवगत कराया, इसके पहले ही ग्रीनमैन ने प्रस्तावित स्थलों का दौरा और पहचान इत्यादि की, मीटिंग में जिले और क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति, पत्रकार , और समाजसेवी उपस्थित रहे।

कौन है विजयपाल बघेल :

गाजियाबाद निवासी और बेहद साधारण व्यक्तित्व लेकिन वृक्षों के प्रति अपार लगाव, अब तक 10 लाख पेंढो को जीवनदान दिला चुके है एक समय के अमरीकी उपराष्ट्रपति ने इनकी प्रकृति के प्रति स्नेह देखकर इन्हें ग्रीन मैन की उपाधि दी थी, और देश-विदेश में अपने कार्यो की वजह से सम्मानित हो चुके है , भारत के राष्ट्रपति अब्दुल कलाम जी भी इनके मुरीदों में से एक थे।

ये पूरी एशिया में एक मात्र ग्रीनमैन है , इस प्रकार से ये दुनिया मे न केवल भारत बल्कि एशिया का प्रतिनिधित्व करते है।