उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
veterinary doctor Murdered 
veterinary doctor Murdered |Social Media
देश

वेटरनरी डॉक्टर ने घरवालों को संभावित खतरे के बारे में बताया, और नौ घण्टे बाद जली हुई लाश बरामद हुई

पुलिस को शंका है कि पीड़िता को जिंदा जलाया गया होगा, शरीर और कपड़ो के फाडे जाने की स्थिति में पुलिस इस एंगल से भी जांच कर रही है कि पीड़िता के साथ बलात्कार भी हुआ होगा। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

28 नवंबर और तेलंगाना के रंगारेड्डी जिला, और उसी के नजदीक स्थित शाद नगर कस्बा, अल्पसंख्यक आबादी बाहुल्य क्षेत्र तड़के तड़के एक दूधिया हैदराबाद - बैंगलूर हाइवे के ब्रिज के नीचे से गुजरा और उसे एक कोने पर कुछ संदिग्ध सा दिखाई दिया, करीब से देखने पर उसकी चीख निकल गयी, पता चला कि एक लड़की की बेहद बुरी स्थिति में जली हुई लाश पड़ी है, आनन-फानन में दूधिये ने स्थानीय पुलिस को सूचित किया और पुलिस ने शिनाख्त के आधार पर युवती के परिजनों को, यहाँ बताते चले कि लगभग नौ घण्टे से युवती के परिजन उसकी तलाश कर रहे थे।

आखिर मामला क्या है ?

"तूलिका" मृतका का बदला हुआ नाम एक छब्बीस वर्षीय वेटरनरी चिकित्सक थी (वेटरनरी माने तो पशुओं और अन्य जीवों की डॉक्टर) तेलंगाना के ही एक गांव कोल्लूर में नौकरी कर रही थी। 27 नवंबर की दोपहर के अंत मे तूलिका की किसी त्वचारोग विशेषज्ञ के पास एपॉइंटमेंट थी, नजदीकी कस्बे गचिवोब्ली में, तूलिका वहाँ तक अपनी स्कूटी से ही निकल गयी, हालांकि ये कथन मृतका के परिवार का है, जबकि पुलिस ने टोल प्लाजा के सीसीटीवी की मदद से यह जानकारी जुटाई की उसने कस्बे तक जाने के लिए शेयर्ड कैब ली, और लौट कर अपनी स्कूटी पर अपने गंतव्य स्थान तक जाना चाहा।

सनद रहे ये बातें मृतका तूलिका की बहन द्वारा भी बताई जा रही है, बहन ने आगे बताया कि रात को करीब सवा नौ बजे बाद तूलिका ने मुझे फोन करके सूचित किया कि उसकी स्कूटी पंचर हो गयी है, और दो लोगों ने उसके पंचर बनवाने का आग्रह किया, वो आस-पास खड़े ट्रकों के हिसाब से या तो ट्रक ड्राइवर हो सकते है, हालांकि उनकी मदद के बाद भी पंचर बनाने में सफलता नही मिली। मृतका ने वहाँ की स्थिति में कुछ ऐसा महसूस किया जिसके अनुसार उसने डर लगने की बात अपनी बहन को बताई।

जिसपर बहन ने उसे टोल प्लाजा पर पहुंचने को कहा, बहन ने दोबारा तूलिका से करीब पौने दश बजे सम्पर्क करने का प्रयास किया लेकिन मोबाइल कई बार स्विच ऑफ और नेटवर्क से बाहर के बारे में बताता रहा, परिवार ने खतरे की आशंका के बाद शमशाबाद पुलिस स्टेशन में गुम हो जाने, और खतरे को लेकर एफआईआर लिखाई, जिसकी स्थानीय पुलिस ने पुष्टि भी की है।

स्थानीय लोगों ओर ट्रक ड्राइवरों पर संदेह :

मृतका के घरवालों को स्थानीय बस्ती में रहने वाले उसके निवासियों और ट्रक ड्राइवरों पर संदेह है, इसको आधार बना कर पुलिस ने कुछ संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूंछताछ भी शुरू कर दी है ! पुलिस को संदेह है कि युवती को जाल में फंसाने के लिए अपराधियों ने उसके वाहन को जानबूझकर पंक्चर कर दिया होगा।

पीड़ित परिजनों ने कहा साइबराबाद पुलिस ने ठीक से जवाब नहीं दिया :

दरिंदों के जुल्म का शिकार हुई वेटनरी डॉक्टर युवती के परिजनों का कहना है कि उन्होंने पुलिस से वारदात की शिकायत की थी, मगर पुलिस ने ठीक से जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा कि यदि साइबराबाद पुलिस ने उनकी शिकायत पर तुरंत कार्रवाई करती तो उनकी बेटी को बचाया जा सकता था।

हैदराबाद के बाहरी इलाके आउटर रिंग रोड पर में बुधवार रात 22 साल की पशु चिकित्सक युवती के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म किया गया और उसके बाद गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी गई। उसके शव को 25 किलोमीटर दूर ले जाकर पेट्रोल से जलाने का प्रयास किया गया। युवती का अधजला शव एक पुलिया के नीचे से बरामद हुआ है।

मारी गई युवती के पिता ने कहा कि उन्होंने बुधवार रात 11 बजे पुलिस को फोन किया था, लेकिन उन्होंने अधिकार क्षेत्र की बात और अन्य सवाल करते हुए बहुत सारा समय बर्बाद कर दिया। उन्होंने बताया कि कुछ हवलदारों को तड़के तीन बजे घटनास्थल पर भेजा गया।

परिजनों ने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस ने उनकी बेटी को लेकर उनसे फालतू के सवाल भी किए, जैसे उसका किसी से प्रेम-प्रसंग तो नहीं था?

पशु चिकित्सक युवती ने अपनी छोटी बहन को रात 9:30 बजे फोन कर जानकारी दी थी कि उसकी स्कूटी का टायर पंक्चर हो गया है। एक व्यक्ति ने मरम्मत के लिए स्कूटी ले ली है, मगर उसने दारू पी रखी है और उसके आसपास कई ट्रक ड्राइवर भी आ गए हैं। उसे डर लग रहा है।

उसकी बहन ने पीड़िता को सलाह दी कि वह आउटर रिंग रोड से बाहर आए और अपने पास के टोल प्लाजा पर जाए, वहां वह सुरक्षित रहेगी।

लेकिन इसके बाद जब पीड़िता की छोटी बहन ने उसे दोबारा फोन किया, तो उसका मोबाइल बंद था। पीड़िता के पिता ने कहा कि शमशाबाद पुलिस स्टेशन में सूचना देने पर उन्होंने कहा कि यह उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं है, यह मामला दूसरे थाने के अंतर्गत आता है।

बाद में पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की जांच में पाया कि पीड़िता ने गचीबोवली में एक त्वचा विशेषज्ञ के पास जाने से पहले अपनी स्कूटी टोल प्लाजा के पास पार्क की। हालांकि, स्कूटी लेने के लिए वह लौटती दिखाई नहीं दे रही है।

पिता ने कहा, "उन्होंने हमसे कहा कि आपकी बेटी यहां नहीं आई है। उन्होंने मुझसे क्लिनिक में फोन करने और यह पूछने को कहा कि कहीं वह शाम को वहां तो नहीं चली गई है। रात के 11 बज रहे थे और क्लिनिक पहले ही बंद हो गया था।"

बाद में लगभग 3 बजे कुछ पुलिस के हवलदार पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ थोंडुपल्ली टोल प्लाजा गए, लेकिन उन्हें वहां कुछ नहीं मिला।

मारी गई युवती की बहन का कहना है कि जब उसने अपनी दीदी से बात की तो उसे नहीं लगा कि वह खतरे में है। उसने कहा, "मुझसे वह सामान्य रूप से बात कर रही थी। हालांकि, उसने कहा कि उसे डर लग रहा है और वह चाहती थी कि मैं उससे बात करती रहूं।"