Vaishali Gupta District Magistrate for one day Of Banda
Vaishali Gupta District Magistrate for one day Of Banda|Uday Bulletin
देश

बाँदा की वैशाली गुप्ता बनी एक दिन की जिलाधिकारी, संभाला कार्यभार और जनता से हुई मुखातिब ! 

नायक फ़िल्म याद तो होगी आपको, जिसमे फ़िल्म का नायक एक दिन के लिए प्रदेश का मुख्यमंत्री बन जाता है, खैर ये तो हुई फिल्मांकन की बात, अब असल मुद्दे पर आते है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

बाँदा डीएम हीरालाल वैसे भी उत्कृष्ट कार्यों के लिए जाने जाते है नदी जल आरती, कुंआ, तालाब जिआओ अभियान, सौ प्रतिशत मतदान और तमाम ऐसे कार्य जिनका सीधा-सीधा सरोकार आमजनता से है ऐसे कार्यों को जिलाधिकारी द्वारा बढ़-चढ़ कर कराया जाता है, लेकिन इस बार का मामला थोड़ा अलग है।

जिलाधिकारी ने कम उम्र के छात्र छात्राओं को समाजसेवा के प्रति रुझान पैदा करने, जिम्मेदारियों के एहसास को जगाने के लिए एक अलग सी मुहिम चलाई हुई है जिसके तहत जिले के मेधावी बच्चों को एक दिन का जिलाधिकारी बनाकर उन्हें जिम्मेदारी के कार्यभार संभालने का मौका दिया जा रहा है। इसी क्रम में बाँदा जिले के राजकीय विद्यालय की छात्रा वैशाली गुप्ता को जिलाधिकारी हीरालाल ने एक दिन का जिलाधिकारी बनाकर एक नजीर कायम की है।

Banda DM Heeralal
Banda DM Heeralal
Uday Bulletin

वैशाली ने संभाला पदभार, सुनी समस्याएं :

एक नन्हीं किंतु बेहद होनहार बच्ची को जैसे ही जिले के मुखिया की कुर्सी मिली वह तत्काल ही बचपन की अटखेलियां छोड़कर एक वरिष्ठता की प्रतिमूर्ति बन गयी, वैशाली ने एक दिन का कार्यभार संभालने के बाद ही आये हुए आगंतुकों का एक जिलाधिकारी की भांति स्वागत किया और दूरदराज से आये हुए ग्रामीणों से उनकी समस्याओं को बखूबी सुना, इस बीच वैशाली समस्याओं को लेकर एक पेपर पर नोट बनाते हुए नजर आयी, इसी कार्यक्रम के दौरान वैशाली ने विभागों के निरीक्षण भी किये और कमी पाने पर संबंधित लोगो को सुधार लाने के लिए निर्देश दिए।

शिकायतों पर सुनवाई के लिए जारी किया आदेश :

Vaishali Gupta District Magistrate for one day Of Banda
Vaishali Gupta District Magistrate for one day Of Banda
Uday Bulletin

वैशाली ने कुर्सी पर काबिज होकर केवल समस्याओं को सुना ही नहीं, बल्कि समस्या का स्तर जानकर उसे तुरंत संबंधित अधिकारियों के पास स्थानांतरित भी किया जिससे समस्याओं का जल्द से जल्द निराकरण भी हो सके। खुद जिलाधिकारी हीरालाल ने बताया कि वह एक परिपक्व अधिकारी की तरह व्यवहार कर रही थी।

भविष्य में आईएएस बनने का है सपना :

वैशाली ने एक दिन के डीएम बनने के बाद मीडिया को बताया कि अब उसका लक्ष्य आईएएस बनना है, क्योंकि इस कुर्सी की मदद से जनता को सीधा लाभ पहुँचाया जा सकता है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com