उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
मायावती का बंगला
मायावती का बंगला|Source-Google
देश

शिवपाल पर योगी सरकार मेहरबान , मायावती का बंगला शिवपाल को दिया

उत्तर प्रदेश में आदित्यनाथ योगी की सरकार ने बासपा सुप्रीमो मायावती का बंगला सपा छोड़ चुके शिवपाल को दे दिया है और समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन 29 अगस्त को किया है। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

उत्तर प्रदेश : 7 मई 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि उत्तर प्रदेश में किसी भी पूर्व मुख्यमंत्रियों को अब सरकारी बंगला नहीं दिए जायेगे, जो मंत्री सरकारी बंगले में रह रहे हैं उन्हें अब ये खाली करना होगा। जिसके बाद बीएसपी सुप्रीमों मायावती सहित , सपा नेता अखिलेश यादव , मुलायम सिंह यादव और राजनाथ सिंह ने सरकारी आवास खाली कर दिया था। लेकिन उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने मायावती का खली बंगला समाजवादी पार्टी छोड़ चुके शिवपाल यादव को दे दिया है।

आये जानते है क्या है इस बंगले की खासियत :-

12 बैडरूम वाले इस बंगले की खासियत है की यह पुरा बंगला साउंड प्रूफ है , यहां रहने के लिए 12 बैडरूम , 12 ड्रसिंग रूम ,2 बड़े हॉल , ४ बड़े बरामदे , २ किचन और नौकरों के लिए स्टाफ क्वार्टर बने हैं। इस बंगले में 8 AC प्लांट लगे हैं और 500 किलो वॉट के साउंड प्रूफ जनरेटर लगे हैं। सूत्रों की माने तो योगी आदित्यनाथ ने शिवपाल को यह बंगला अखिलेश यादव से बगावत करने पर तोहफे के रूप में दिया है।

दरसल शिवपाल यादव ने उत्तर प्रदेश में नई राजनीतिक पार्टी समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन 29 अगस्त को किया है , और वो सपा नेताओं से नाराज भी चल रहे हैं। हालाँकि शिवपाल यादव ये साफ कहा है कि वे हमेशा से बीजेपी के खिलाफ हैं और बीजेपी के साथ उनकी कोई दोस्ती नहीं है।

Also read: भारतीय रेल में ‘दुर्घटना’ का मतलब 

सुश्री मायावती को यह बंगला पूर्व मुख्यमंत्री होने की हैसियत से मिला था जो कि 6 लाल बहादुर शास्त्री मार्ग पर स्थित था ,बंगला कहली करने के पूर्व मायावती ने इस बंगले में काशी राम स्मारक बनाने की मांग की थी, पर उनकी मांग को सरकार ने नामंजूर कर दिया। मायावती ने इस साल मई में यह बंगला खली कर दिया था। साथ ही बंगले की चाभी को सरकार को सौप दी थी,साथ ही बिजली का 73 लाख रूपये बकाया बिल जमा कर उसकी रसीद भी सरकार को दे दी थी।

बता दें कि, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी किया था जिसमें पूर्व मुख्यमंत्रियों को 15 दिन के भीतर सरकारी आवास को खली करने का नोटिस जारी किया था। यह नोटिस मई 2017 में जारी किया गया था। जिसके तहत बीजेपी के पूर्व मुख्य मंत्री राजनाथ सिंह ने अपना बंगला खाली कर दिया था, वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह ने बंगला खली करने की सहमति जाता दी थी ,सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दूसरी सुविधा का हवाला देते हुए कुछ दिनों की मोहलत मांगी थी, जिसे बाद में उन्होंने खाली कर दिया। नारायण दत्त तिवारी की पत्नी उज्वला तिवारी ने भी नारायण दत्त तिवारी की खराब तबियत का हवाला देकर समय मांगा था।