UP Police Women Cops
UP Police Women Cops|Google
देश

यूपी पुलिस ने महिला सुरक्षा के लिए बढ़ाये कदम, अब पीआरवी केवल आपातकाल और दुर्घटना तक सीमित नहीं

हैदराबाद और उन्नाव जैसे मामले के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने भविष्य की घटनाओं से बचाव के लिए एक अनोखी मुहिम चलाई है जिसका चारो ओर गुणगान होना लाजिमी है। 

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

फर्ज करिये कोई महिला अकेले है और ऐसी सुनसान जगह पर है और उसे किसी अनहोनी का डर सता रहा है तो अब उत्तर प्रदेश में उस महिला को भयभीत होने की जरूरत नही है, दरअसल उत्तर प्रदेश पुलिस ने अब डायल 100, और 112 पर महिला सुरक्षा को वरीयता के साथ जोड़ा है। इस कदम के साथ यह सुनिश्चित किया गया है कि रात 10 बजे से लेकर सुबह के 6 बजे तक अगर कोई महिला या लड़की ऐसी असुरक्षित जगह पर है जहां उसे भय महसूस हो रहा है वह अपनी मदद के लिए पुलिस को 112, या फिर 100 पर डायल करके मदद मांग सकती है, ऐसी स्थिति में पुलिस की पीआरवी महिला को सुरक्षित स्थान पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध होगी, जो या तो उसका घर हो सकता है या किसी निकट संबंधी के पास सुपुर्दगी दर्ज कराई जाएगी।

UP Police 
UP Police

क्या होगा समय बंधन : उत्तर प्रदेश पुलिस ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में यह जानकारी दी है कि किसी भी महिला को रात्रि के 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक यह सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

महिला आरक्षियों की होगी नियुक्ति : उत्तर प्रदेश पुलिस ने यह सुनिश्चित किया है कि महिलाओं की मदद के लिए उपलब्ध पीआरवी में महिला आरक्षियों की उपस्थिति अनिवार्य की जावेगी।

पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने सभी जिलों को निर्देश दिए हैं कि पीआरवी में कुल चार पुलिस कर्मियों की तैनाती होगी। दो महिला एक पुरुष व एक चालक को तैनात किया जाएगा।

हैदराबाद की घटना के बाद अलग-अलग राज्यों की पुलिस ने महिला सुरक्षा के लिए यह पहल की है। देहरादून के एसएसपी ने किसी भी महिला को 112 में सुरक्षा मांगने पर उसे घर तक पहुंचाने को कहा है। इसके अलावा पंजाब के कुछ जिलों और छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में भी इस तरह की योजना संचालित हो रही है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com