उप्र: जिन जिलों में पुलिसकर्मियों की अचल संपत्ति वहां नही होगी तैनाती

उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए सरकार ने अब नया फरमान जारी किया है, जिसकी वजह से पुलिसकर्मियों को परेशानी होना लाजिमी है, दरअसल आम लोगों से लगातार मिल रही शिकायतों के चलते इस कदम को उठाया गया है।
उप्र: जिन जिलों में पुलिसकर्मियों की अचल संपत्ति वहां नही होगी तैनाती
up policeGoogle Image

उत्तर प्रदेश के पुलिसकर्मी अपने गृह जनपद या रेंज तैनाती मिलने पर जन सामान्य को परेशान करते है और उन्हें पुलिसिया रौब दिखाकर डराते हैं शायद यही कारण है कि योगी सरकार ने यह कदम उठाया है।

गृह जिले में नही हो सकती तैनाती:

जैसा कि उत्तर प्रदेश पुलिस की नियमावली में इस बात का वर्णन है कि किसी भी सिपाही हेड कांस्टेबल, एसआई, इंस्पेक्टर इत्यादि न तो अपने गृह जिलों में तैनाती पा सकते है ना ही ग्रह जनपदों के सीमावर्ती इलाकों में, अब इस मामले में एक बिंदु और भी जोड़ा गया है कि जिन पुलिसकर्मियों ने अपने तैनाती स्थल पर अपने आवास या मकान निजी तौर पर बनवा लिए है उनको चिन्हित करके स्थानांतरण करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

लोगों द्वारा लगाए गए आरोप:

दरअसल जिलों में तैनात पुलिसकर्मियों और अधिकारियों पर निवास करने वाले अन्य लोगों ने विभाग से शिकायत की है और शिकायत में यह दर्शाया गया है कि पुलिसकर्मी अपने पद और विभागीय पकड़ के बल पर अपनी पुलिसिया हनक दिखाने से नहीं चूकते और इससे आम लोगों को तकलीफ होती है।

इस मामले में अपर पुलिस महानिदेशक द्वारा बाँदा चित्रकूट रेंज के आईजी को पत्र लिखा गया है पत्र में इस बात की तस्दीक की गई है कि दूसरे जनपदों से आये पुलिसकर्मियों ने यहीं आवास बना लिया है इसकी वजह से वास्तविक पुलिसिंग की व्यवस्था चरमरा रही है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com