उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Uttar Pradesh minister Sunil Bharala
Uttar Pradesh minister Sunil Bharala|ANI Twitter Grab
देश

भाजपा के मंत्री की अनोखी सलाह, प्रदूषण से बचने के लिए कराएं यज्ञ।

प्रदूषण से लाखों लोगों की जिंदगी दांव पर और भाजपा के मंत्री जी यज्ञ कराने को कह रहे हैं।

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

कुछ दिनों तक भाजपा में गिने चुने बड़बोले नेता थे और विपक्षी दलों में इनकी भरमार थी, लेकिन शायद यह मिथक ज्यादा दिनों तक नही रहेगा, क्योकि इस मामले में भी भाजपा पहले नम्बर पर आने की होड़ में है, चाहे वह निरंजन ज्योति हो या साक्षी महाराज या फिर कोई और सब मौके बेमौके अनाप सानाप बोलकर बड़े नेतृत्व की लैया करारी कराते चले आ रहे है, अबकी बार उत्तर प्रदेश के एक मंत्री जी ने अपना मुंह खोला है।

उत्तर प्रदेश में एक नेता महोदय हैं सुनील भराला, मंत्री पद पर काबिज है, विभाग और मंत्रालय भी ऐसा जो आमजन से जुड़ा हुआ है श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष जिन्हें दर्जे में मंत्री के बराबर माना गया है, हालाँकि इनका विवादों से पहले का नाता है , लेकिन इस बार तो इन्होंने हद ही कर दी, एक ओर जहां देश की राजधानी गैस चैंबर बनी जा रही है, प्रदूषण मापन के यंत्र दिल्ली की आबोहवा को मापने में फेल हो चुके है और साहब अलग ही राग अलापते नजर आ रहे है।

दरअसल मामला दिल्ली में प्रदूषण से जुड़ा हुआ है वैज्ञानिकों ने प्रदूषण के लिए हरियाणा और एनसीआर के खेतों में जलाई गई पराली के उठते हुए धुंए को सबसे बड़ा कारण माना है और उत्तर प्रदेश के इन मंत्री जी को इस से शिकायत है, मंत्री जी ने समाचार एजेंसी ANI उत्तर प्रदेश को बताया कि "लोग ख़ामोखा किसानों को निशाना बनाने पर तुले है, खेत मे फसल जलाने का तरीका सदियों पुराना और बेहद पारंपरिक है, इस से कोई प्रदूषण नहीं फैलता, बल्कि गन्ने की पत्तियां, दलहन की अवशेष फसल खेतों में ही जलाई जाती रही है, सरकार को नए नवेले फर्जी तरीके न खोज कर वैदिक प्रणाली अपनानी चाहिए, जानकारों के हिसाब से अगर भरी पूरी बरसात हो जाएगी तो प्रदूषण खत्म हो जाएगा, तो पानी के लिए ग्रामीण व्यवस्था में इंद्र देव को प्रसन्न करने के लिए यज्ञ का आयोजन होता रहा है, इस लिए सरकारों को भी यज्ञ कराने चाहिए।

जैसा कि सभी जानते है यज्ञ और अन्य पुण्य कार्य आस्था पर आधारित होते हैं लेकिन इस समय केवल आस्था से काम नहीं चलेगा, मामला दिल्ली और उसके आस-पास में बसे लाखों लोगों की जिंदगी का है, इस पर नेताओं को बचकाने सवालों से बचना चाहिए।