उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
महिला शिक्षिका पर स्कूल जाते समय फायरिंग
महिला शिक्षिका पर स्कूल जाते समय फायरिंग |Google News
देश

अज्ञात हमलावरों ने महिला शिक्षिका पर स्कूल जाते समय ताबड़तोड़ फायरिंग की

सुनीता हरियाणा के बवाना गांव की निवासी थी, वह फिरोजपुर, सोनीपत में एक सरकारी उच्च माध्यमिक लड़कियों के स्कूल में पढ़ाती थीं।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के अवाना इलाके में सोमवार को कुछ अज्ञात हमलावरों ने महिला शिक्षिका पर स्कूल जाते समय ताबड़तोड़ फायरिंग की , वह महिला स्कुटी से स्कूल जा रही थी , महिला को तीन गोली लगी और घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस के मुताबिक, घटना सुबह आठ बजे के आसपास उस समय हुई जब बाइक पर सवार हमलावरों ने स्कूटी से स्कूल जा रही 41 वर्षीय शिक्षिका की स्कूटी को रोकते हुए हत्या की वारदात को अंजाम दे दिया। मृतका की पहचान सुनीता के रूप में हुई है। सुनीता मूल रूप से हरियाणा की रहने वाली हैं और शादी के बाद वह दिल्ली के अवाना इसलके में अपने ससुराल वालों के साथ रह रही थी।

पुलिस उपायुक्त रजनीश गुप्ता ने बताया, "सुनीता को पास के अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया। उनके पेट में तीन गोलियां मारी गई थी।"

पुलिस उपायुक्त रजनीश के जांच के अनुसार , "सुनीता हरियाणा के बवाना गांव की निवासी थी, वह फिरोजपुर, सोनीपत में एक सरकारी उच्च माध्यमिक लड़कियों के स्कूल में पढ़ाती थीं। बवाना रोड पर जब हमलावरों ने उन्हें निशाना बनाया उस समय वह स्कूल जा रही थीं।" उनपर हमला पुलिस चौकी से मात्र 200 मीटर की दुरी पर हुआ।

Also read: दिल्ली उच्च न्यायालय - 81 वर्षीय विधवा के साथ दुष्कर्म और हत्या का आरोपी बरी 

अधिकारी ने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि हमलावर सुनीता को मारने की प्रतीक्षा कर रहे थे। सुनीता को हमलावरों की तीन गोलियां लगी और वो वही गिर पड़ी। जिसके बाद स्थानीय लोग उन्हें उठा कर पास के महर्षि वाल्मीकि अस्पताल ले गए। लकिन डॉक्टर ने उन्हें देखते ही मृत घोषित कर दिया था। पुलिस अस्पताल से जानकारी मिलने के बाद तुंरत जाँच में जुट गई। हालाँकि सुनीता को गोली किसने मारा इसकी जानकारी नहीं मिली है , हमलावर कितने थे और किस गाड़ी से आये थे यह कोई भी बता नहीं पा रहा है। सुनीता को अस्पताल लाने वाला शख्स भी अज्ञात है।

आपको बता दें पुलिस उपायुक्त रजनीश गुप्ता ने कहा, "आरोपियों की पहचान के लिए हम इलाके के सीसीटीवी कैमरों की जांच कर रहे हैं।" मामला लूट का नहीं है आपसी रंजिश का है या कोई निजी वजह भी हो सकता है। सुनीता का पति भी शक के दायरे में है।