उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
 PM Modi के सामने ही BJP नेता गलत तरिके से छूने लगे महिला नेता को
PM Modi के सामने ही BJP नेता गलत तरिके से छूने लगे महिला नेता को|twitter
देश

Video: PM Modi की उपस्थिति में BJP नेता ने साथी महिला नेता के साथ की ‘शर्मनाक हरकत’

त्रिपुरा में प्रधानमंत्री मोदी की जनसभा के दौरान त्रिपुरा राज्य के मंत्री मोनोज कांती देव ने अपनी साथी नेता के साथ अनुचित व्यवहार किया। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

जब कोई जनप्रतिनिधि जनता के सामने वोट मांगने जाता है तो वह जनता से उसकी रक्षा, उसके विकास, और उसके प्रति सामाजिक जवाबदेही को पूरा करने का वायदा करता है। लेकिन जनता ऐसे राजनेता को क्यों चुने जो न तो अपनी रक्षा कर सकते हैं और न ही अपने आचरण को मर्यादित और संयमित रख सकते हैं। देश के प्रधानमंत्री की सभा में पिछले दिनों ऐसा ही कुछ नज़ारा देखने को मिला है।

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी त्रिपुरा में जनसभा को संबोधित कर रहे थे उसी समय वहाँ मौजूद राज्य मंत्री मोनोज कांती देव ने अपने मंत्रीमंडलीय साथी को सबके सामने गलत तरीके से छुया। महिला मंत्री ने तुरंत विरोध करते हुए उनका हाथ तो झटक दिया लेकिन मंत्री जी अपनी बतमीज़ी से कहाँ बाज आने वाले थे। उन्होंने दोबारा वही हरकत की जिसके बाद मंत्री जी कि ये बतमीज़ी मीडिया के कैमरे में रिकॉर्ड हो गई।

बीते 9 फ़रवरी को प्रधानमंत्री त्रिपुरा में एक कार्यक्रम का उद्घाटन करने पहुंचे थे, हैरान करने वाली बात यह है कि ये सारा नज़ारा प्रधानमंत्री मोदी के उसी उद्घाटन समारोह में उनके सामने हुआ और मंच पर त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देव भी मौजूद थे। हालांकि, उदय बुलेटिन इस वीडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है।

विपक्षी वाम दलों ने इस घटना पर कड़ी आपत्ति जताई है और CPI (M) कार्यकर्ताओं ने राजधानी अगरतला की सड़कों पर उतरकर विरोध-प्रदर्शन किया है साथ ही उन्होंने मोनोज कांती देव के इस्तीफे की मांग भी की है। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने वाम मोर्चे पर चरित्र हनन का आरोप लगाते हुए उसकी मांग को ठुकरा दिया और वाम दलों पर विशेष राजनीती करने का आरोप लगाया है।

बीजेपी के इंकार के बाद सीपीआई (एम) के नेता बिजन धर ने कहा कि जिस मंच पर प्रधानमंत्री, राज्य के मुख्यमंत्री और अन्य लोग मौजूद थे वहां राज्य सरकार के एक मंत्री का महिला मंत्री को सरेआम गलत तरीके से छूना शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि यदि मनोज कांती देव इस पर अपना इस्तीफा नहीं देते हैं तो मुख्यमंत्री बिप्लव देव को उन्हें बर्खास्त कर देना चाहिए और उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए। हालांकि बीजेपी नेताओं का कहना है कि महिला नेता ने अब तक इसकी शिकायत नहीं की है।