मदद की गुहार पर पसीजा एसएसपी का मन, भारी भरकम चालान को किया माफ

एसएसपी आकाश तोमर ने दिखाई दारियादिली 5000 का चालान किया माफ़ स्टूडेंट ने ट्विटर पर लगाई दी मदद की गुहार।
मदद की गुहार पर पसीजा एसएसपी का मन, भारी भरकम चालान को किया माफ
SSP Akash TomarGoogle Image

अनजाने में हुई भूल को स्वीकार करना एक बहुत बड़े ह्रदय का काम है। कुछ ऐसा ही हुआ इटावा के एक छात्र दीपेंद्र यादव के साथ हुआ। दीपेंद्र का चालान महज इस लिए किया गया था कि उसकी नम्बर प्लेट का एक नम्बर अपने आप मिट गया था। इस अपराध पर उसे 5000 रुपये का चालान थमा दिया। हालांकि अपराध स्वीकारने पर एसएसपी आकाश तोमर ने छात्र के चालान को माफ कर दिया।

नम्बर प्लेट ने मिटा एक नंबर:

हुआ कुछ यूं कि इटावा के गांव हरिहरपुर निवासी छात्र दीपेंद्र यादव अपनी मोटरसाइकिल से कोचिंग करके घर लौट रहा था। रास्ते मे स्थानीय पुलिस ने चेकिंग लगाई गई थी। जहां पर चेकिंग में यह पाया गया कि दीपेंद्र की बाइक में लगी नम्बर प्लेट में एक नम्बर मिट चुका है चूंकि मोटर वाहन अधिनियम में यह साफ साफ उल्लेख है कि वाहन की नम्बरप्लेट में वाहन का रजिस्ट्रेशन नम्बर बेहद साफ सुथरे तरीके से लिखा हुआ आवश्यक है। नम्बर सही न पाए जाने पर विधान के अनुसार कार्यवाही की जायेगी। सो पुलिस ने मोटर व्हीकल एक्ट के तहत नम्बर प्लेट सही तरीके से प्रदर्शित न करने के कारण दीपेंद्र को 5000 रुपये का चालान जमा करने का दंड सुना दिया।

दीपेंद्र ने एसएसपी से लगाई गुहार:

इस मामले पर छात्र दीपेंद्र ने इटावा के एसएसपी आईपीएस आकाश तोमर से न सिर्फ अपनी व्यथा बतायी बल्कि अनजाने में हुई भूल को स्वीकार भी किया दीपेंद्र ने बताया कि "श्री मान मैं गांव निवासी एक छात्र हूँ। मैं पढ़कर घर को लौट रहा था जहां पर चेकिंग के दौरान मुझपर 5000 रुपये का दंड इस लिए लगाया गया कि मेरे नम्बर प्लेट पर एक नम्बर गायब था। हालाँकि मैं अपनी इस भूल के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ लेकिन पांच हजार की धनराशि भी चुकाने में असमर्थ हूँ चूंकि घर की स्थिति भी वैसी नहीं है जिसके आधार पर भारी चालान चुकाया जा सके। आप मेरी मदद करें।

एसएसपी ने कहा चालान माफ:

वो कहते है कि दंड लगने वाले व्यक्ति के हिसाब से होना चाहिए ताकि वह सहन कर सके, छात्र की अपील पर पसीजकर आईपीएस ने छात्र पर लगे हुए चालान को माफ कर दिया और उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं प्रदान की, मामले को लेकर सब जगह चर्चे चल रहे है

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com