Uday Bulletin
www.udaybulletin.com
Dr. Rajendra Prasad
Dr. Rajendra Prasad|photodivision.gov.in
देश

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर विशेष !

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर जानते है उनके जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

Ashutosh

Ashutosh

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर श्रद्धांजलि दी, भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर जानते है उनके जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य।

  1. डॉ० राजेंद्र प्रसाद का जन्म 3 दिसम्बर 1884 में जीरादेई, बंगाल प्रेसीडेंसी (वर्तमान में बिहार ) में हुआ था।
  2. डॉ० राजेंद्र प्रसाद एक कायस्थ परिवार में जन्मे जो मूल रूप से कुआँगाँव, अमोढ़ा (उत्तर प्रदेश) के निवासी थे।
  3. राजेंद्र प्रसाद ने 1915 में स्वर्ण पद के साथ विधि परास्नातक की परीक्षा पास की और बाद में विधि के क्षेत्र में ही डॉक्टरेट की उपाधि हासिल की ।
  4. भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ० राजेंद्र प्रसाद को देश में अत्यंत लोकप्रिय होने के कारण उन्हें राजेंद्र बाबू भी कह के पुकारा जाता था।
  5. डॉ० राजेंद्र प्रसाद को वैसे तो अंग्रेजी, फारसी, उर्दू सहित कई भाषाओ का ज्ञान था लेकिन वे हिंदी से विशेष प्रेम करते थे।
  6. भारतीय स्वतंत्रा आंदोलन में उनका पदार्पण एक वकील के रूप में हुआ लेकिन वे 1934 और 1939 में कांग्रेस का अध्यक्ष पद भी संभाला।
  7. स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद वे भारत के प्रथम राष्ट्रपति चुने गए, और 12 वर्षो तक राष्ट्रपति रहने के बाद 1962 में अपने अवकाश की घोषणा की, इसके बाद उन्हें भारत सरकार द्वारा भारत रत्न से नवाजा गया।
  8. राजेन्द्र बाबू ने अपनी आत्मकथा के अतिरिक्त कई पुस्तकें भी लिखी जिनमें बापू के कदमों में बाबू, इण्डिया डिवाइडेड, सत्याग्रह ऐट चम्पारण, गान्धीजी की देन, भारतीय संस्कृति व खादी का अर्थशास्त्र इत्यादि उल्लेखनीय हैं।
  9. राजेंद्र बाबू की वेश भूषा बड़ी सरल थी, देखने में वे सामान्य किसान जैसे लगते थे और वैसा ही साधारण जीवन जीते थे।
  10. अपने अंतिम समय उन्होंने पटना के निकट सदाकत आश्रम चुना यहाँ पर 28 फ़रवरी 1963 में उनका स्वर्गवास हो गया।