उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
राहुल गाँधी
राहुल गाँधी |IANS
देश

सीबीआई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में राजनीतिक बदला लेने वाला हथियार: राहुल गाँधी 

राहुल की यह टिप्पणी सीबीआई द्वारा रविवार को अपने ही विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ रिश्वत लेने का मामला दर्ज करने के बाद आई है।

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में राजनीतिक बदला लेने वाला हथियार बताया। राहुल की यह टिप्पणी सीबीआई द्वारा रविवार को अपने ही विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ रिश्वत लेने का मामला दर्ज करने के बाद आई है। अस्थाना पर धनशोधन के कई मामले में आरोपी मांस निर्यातक मोइन कुरैशी के एक मामले का निपटारा करने के लिए रिश्वत लेने का आरोप है।

राहुल ने ट्वीट करते हुए कहा, "प्रधानमंत्री के चहेते, गुजरात कैडर के अधिकारी, गोधरा पर गठित एसआईटी से प्रसिद्धि में आए और सीबीआई में नंबर दो के रूप में घुसाए गए अधिकारी को अब रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है।"

उन्होंने कहा, "इन प्रधानमंत्री के शासन में सीबीआई राजनीतिक बदला लेने का हथियार बन गई है। एक संस्थान जो गर्त में जा रहा है, खुद से लड़ रहा है।"

अस्थाना के अलावा सीबीआई ने भारत के विदेशी खुफिया एजेंसी रॉ के विशेष निदेशक सामंत कुमार गोयल का भी नाम दर्ज किया है लेकिन उनको आरोपी नहीं बनाया गया है।

इससे पहले अस्थाना ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के खिलाफ IRCTC मामले में हस्तक्षेप करने की शिकायत दर्ज कराई थी। इस मामले में राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू यादव के परिजनों पर आरोप हैं।

दरअसल, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अपने ही विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ रिश्वत लेने का मामला दर्ज किया है। आस्थाना पर धनशोधन के कई मामले में आरोपी गोश्त निर्यातक मोइन कुरैशी के एक मामले का निपटारा करने के लिए रिश्वत लेने का आरोप है। यह जानकारी रविवार को एजेंसी की ओर से दी गई।

किन पर है आरोप

1984 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के गुजरात कैडर के अधिकारी अस्थाना पर एक कारोबारी से दो करोड़ रुपये का रिश्वत लेने का आरोप है, जो कुरैशी के मामले के तहत जांच के दायरे में थे। यह रकम उनको जांच को प्रभावित करने के लिए दिया गया था। मामला अस्थाना की अगुवाई में विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा की जा रही थी।

सीबीआई ने बिचौलिया मनोज की गिरफ्तारी के बाद 15 अक्टूबर को एफआईआर दर्ज की। मनोज ने मजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान में अस्थाना को दो करोड़ रुपये की रकम देने की पुष्टि की है।

अस्थाना के अलावा सीबीआई ने भारत के विदेशी खुफिया एजेंसी रॉ के विशेष निदेशक सामंत कुमार गोयल का भी नाम दर्ज किया है, लेकिन उनको आरोपी नहीं बनाया गया है।