उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Banda sadar MLA Raghvendra Dwivedi
Banda sadar MLA Raghvendra Dwivedi|Uday Bulletin
देश

बाँदा सदर विधायक के भतीजे राघवेंद्र द्विवेदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मत्यु, पुलिस संदेह के घेरे में

झगड़े के बाद हुयी हत्या !

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

Summary

बाँदा पुलिस एक ओर जहां अपने गुड़ मॉर्निंग जैसे कार्यक्रमों से लोगों के बीच मे अपनी नई पहचान बनाने में जुटी हुई है वहीँ कुछ घटनाएं पुलिस की करी कराई मेहनत पर पानी फेरने में सफल हो जाती है। ताजे मामले में बाँदा पुलिस का नया सरदर्द तैयार हो चुका है, मामले में संदिग्ध परिस्थितियों के अंतर्गत सदर विधायक के एकमात्र भतीजे की मौत पुलिस चौकी के अंतर्गत होने से मामला गर्मा गया है।

23 दिसंबर की बीती तारीख को संदिग्ध परिस्थितियों में बाँदा सदर के विधायक प्रकाश द्विवेदी के एक मात्र भतीजे की मृत्यु संदिग्ध परिस्थितियों में हो गयी, मृतक के परिजनों ने साजिशन जहर खिलाकर मारने की साजिस रचने के लिए लोगो के विरुद्ध नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई है।

साथियों पर लगाया आरोप :

मृतक के परिजन खुद सदर विधायक समेत अन्य परिवारीजनों ने जहर खिलाने के आरोप में करण सिंह परिहार, यशवंत सिंह परिहार और उसके सगे छोटे भाई विमल सिंह परिहार और अन्य दो लोगों अजय विश्वकर्मा, सोनू शर्मा, के साथ रतन चतुर्वेदी के ऊपर साजिशन जहर खिलाकर मारने का आरोप लगाया। और पुलिस ने इन हत्यारोपियों के ऊपर मुकदमा पंजीकृत करके गिरफ्तारी शुरू कर दी है। पुलिस ने उक्त हत्यारोपियों के ऊपर आईपीसी की धारा 302, 147, 328 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया है।

बीती 20 तारीख को हुआ था झगड़ा :

गौरतलब हो उक्त हत्यारोपियों और मृतक राघवेंद्र के बीच किसी विवाद को लेकर कहासुनी हुई और बयाद में यह मामला मारपीट तक पहुँच गया। मारपीट ऐसे जगह में हुई जहाँ एक निजी स्कूल है मृतक के परिजनों ने बताया कि स्कूल के सीसीटीवी रिकार्डिंग में मृतक के साथ मारपीट के पुख्ता सबूत है

मृत्यु के दिन मृतक को हत्यारोपियों ने सुलह करने के बहाने बुलाया था जहाँ मृतक को खाने में जहर दिया गया और इस मामले को लेकर बहस और मारपीट हुई, इसको लेकर राघवेंद्र पुलिस चौकी पहुचा , जहां मृतक की हालत बिगड़ने लगी और जानकारी होने पर पुलिस द्वारा राघवेंद्र को जिला अस्पताल पहुचाया गया, जहाँ स्थिति ठीक न होने पर कानपुर के लिए रिफर किया गया जहाँ एक निजी अस्पताल में राघवेंद्र की मौत हो गयी !

आला अधिकारियों के सामने हुआ पोस्टमार्टम, बिसरा सुरक्षित :

मामले को हाई प्रोफाइल और संवेदनशील समझकर मृतक का पोस्टमार्टम आला अधिकारियों की मौजूदगी में कराया गया तथा पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी कराई गई, दो चिकित्सकों के पैनल ने मृतक का बिसरा सुरक्षित कर लिया है जिसको जांच के लिए लैब भेजा जाएगा।

पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार करने का किया दावा :

बाँदा पुलिस ने मीडिया को बताया कि शिकायत के अनुसार मुख्य आरोपी करण सिंह परिहार पुत्र यशवंत सिंह परिहार को गिरफ्तार कर लिया है और अन्य आरोपियों को पकड़ने के लियूए शिकंजा कसा जा रहा है, पुलिस ने बताया कि अन्य आरोपियों के पकड़ने के लिए छिपने के संभावित ठिकानों पर लगातार दबिश दी जा रही है, जल्द ही आरोपियों को सलाखों के पीछे किया जाएगा, पुलिस इस बात को ध्यान में रखकर कदम उठा रही है कि राघवेंद्र की हालत पुलिस चौकी में ही खराब हुई थी, इस लिए पुलिस बेहद सजग कदम उठाएगी।

मामला बडे लोगो का है, इसलिए कुछ भी हो सकता है :

ज्ञात हो यह मामला किसी आम आदमी का नहीं है बल्कि सत्ताधारी पार्टी के सिटिंग विधायक का है और हत्या के आरोपी लोगों का भी वर्चस्व है इसलिए इस मामले को लेकर लोग तरह तरह के कयास लगा रहे है कि मामले को लेकर अगली खबर क्या आएगी? चूंकि मामला हाईप्रोफाइल है तो जाहिर सी बात हैं की इसका अंजाम भी अलग तरीके से होगा, पुलिस को आशंका है कि इस मामले को लेकर न्याय कोर्ट के बाहर ही लेने की होड़ न मच जाए ,इससे जिले की कानून व्यवस्था चरमरा सकती है।