उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com
Sikkim Airport Inaugurates
Sikkim Airport Inaugurates|Source- the print
देश

सिक्किम को मिला प्रधानमंत्री का तोहफा , 620 करोड़ रुपए की लागत में बना हाई-टेक एयरपोर्ट

प्रधानमंत्री ने सिक्किम के पाक्योंग में किया राज्य के पहले एयरपोर्ट का उद्घाटन ,पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने २००८ में किया था शिलान्यास , 620 करोड़ रूपए की लागत से हुआ निर्माण। 

AKANKSHA MISHRA

AKANKSHA MISHRA

सिक्किम: बीते सोमवार प्रधानमंत्री मोदी जी ने सिक्किम के पाक्योंग में राज्य का पहला हाई टेक एयरपोर्ट का उद्घाटन किया। यह एयरपोर्ट सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 33 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है और भारत -चीन सीमा से सिर्फ 60 किलोमीटर की दूरी पर है।

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ने इस एयरपोर्ट का निर्माण 620 करोड़ रुपए की लागत में किया है। उद्घाटन के मौके पर मौजूद प्रधानमंत्री ने कहा "40 साल बाद सिक्किम में एयरपोर्ट का निर्माण संभव हुआ है , आज भारत घरेलु उड़ानों के मामले में दुनिया का तीसरा बड़ा मार्केट बन गया है। " भारत-चीन बॉर्डर के करीब होने के कारण यह राजनितिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। पिछले ७० सालों से देश में कुल ४०० विमान थे आज विमान कम पड़ रहे है, विमान कंपनियों ने १००० विमानों का आर्डर दिया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद अब तक 67 सालों में 65 एयरपोर्ट बने थे , अब देश में 100 एयरपोर्ट हैं , पाक्योंग एयरपोर्ट को उड़ान योजना से जोड़ा जायेगा।

१० साल लगे प्रोजेक्ट पूरा करने में -

  • इस प्रोजेक्ट को अक्टूबर 2008 में कैबिनेट में पास किया गए था।
  • 2009 में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा इस योजना का शिलान्यस किया गया।
  • 2012 में इसे पूरा किया जाना था |
  • स्थानीय लोगों के पुनर्वास की मांग के करण विरोध शुरू हुआ।
  • 2018 में प्रंधानमंत्री मोदी के द्वारा इसका उद्घाटन किया गया।

कहां कहां भरेंगी उड़ाने -

  • दुर्गा पूजा से पहले स्पाइजेट कोलकाता से गुवाहाटी की उड़ने शुरू करेगा।
  • पाक्योंग से थाईलैंड ,भूटान और नेपाल की उड़ने शुरू होंगी।
  • पाक्योंग एयरपोर्ट में इस साल 5 मार्च को पहली बार वायु सेना का डॉर्नियर 228 विमान उतरा गया था।

क्या है खासियत -

  • इस एयरपोर्ट के नीचे जलधाराएं निकलती हैं।
  • इस एयरपोर्ट के बन जाने से राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।
  • चीन सीमा से सटे होने के कारन यह काफी अहम माना जा रहा है।