बाँदा जिले में सड़कों पर गड्ढे
बाँदा जिले में सड़कों पर गड्ढे |उदय बुलेटिन
देश

योगी के मंसूबे अधूरे, सड़के गायब गड्ढे राहगीरों को चिढ़ा रहे है

जैसे ही उत्तर प्रदेश की सत्ता पर भाजपा काबिज हुई थी, योगी सरकार ने सभी सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का आदेश किया था लेकिन अब वक्त के साथ योगी आदित्यनाथ के वायदे भी झुठलाने लगे हैं

Shivjeet Tiwari

Shivjeet Tiwari

मामला उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले अंतर्गत गांव लोहरा परमपुरवा से जुड़ा हुआ है जहाँ पर खेत सड़कों से अच्छे नजर आ रहे हैं, योगी सरकार ने 100 दिन में प्रदेश की सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का वादा किया था लेकिन ये वादा योगी सरकार पूरा न कर सकी। प्रदेश की सड़कें सिर्फ कागजों पर ही गड्ढा मुक्त हुयी हैं बास्तबिकता में ऐसा कुछ नहीं हुआ।

दो साल के अंदर सड़क ध्वस्त:

राष्ट्रीय राजमार्ग से मध्यप्रदेश की सीमा को जोड़ने वाली लिंक रोड जो गोयरा चौराहे से होते हुए खैरार जंक्शन के आगे परम पुरवा से लोहरा तक जाती है वह सड़क आजकल राहगीरों के लिए जी का जंजाल बनती जा रही है। छोटे वाहनों और मोटरसाइकिल सवारों को इस सड़क में चलकर रोज गड्ढों में गिरकर चुटहिल होना पड़ रहा है। हालात यह है कि थोड़ी सी बरसात होने की स्थिति में दोपहिया वाहनों का निकलना दूभर हो जाता है।

दो साल पहले हुई थी मरम्मत:

बाँदा जिले में सड़कों पर गड्ढे
बाँदा जिले में सड़कों पर गड्ढे उदय बुलेटिन

ज्ञात हो कि इससे पूर्व में सरकार बनने के बाद ग्रामीणों की पहल के बाद सरकार ने इस सड़क का पुनर्निर्माण कराया था लेकिन बनने के मात्र एक साल के अंदर ही इस सड़क की परते उखडने लगी और दो साल के बाद यह सड़क सड़क न रहकर गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। इस मामले में स्थानीय निर्माण विभाग के द्वारा न तो कोई सुध ली जा रही है न ही सड़क में कोई सुधार कार्य किया जा रहा है।

कमीशनखोरी का है खेल:

जानकारों की माने तो लिंक सड़को और गावों तक पहुंचने वाली सड़को में सरकार द्वारा दी गयी रकम का एक बड़ा हिस्सा कमीशनखोरी की भेंट चढ़ जाता है नतीजन ठेकेदार द्वारा सड़क का काम केवल लोगों की नजरो में लाने तक ही सीमित रहता है अन्यथा पांच साल तक की गारंटी वाली सड़क दो साल में ही धरती से गायब कैसे हो सकती है।

उदय बुलेटिन के साथ फेसबुक और ट्विटर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com