लॉक डाउन में प्रकृति ने खुद को सँवारा, सैकड़ों किलोमीटर दूर से देखी जा सकती है पहाड़ियां

लॉक डाउन में एक ओर जहां कोरोना से बचत हुई है वहीँ भारत भर में तापमान, वातावरण और पॉल्यूशन के मामले में अभूतपूर्व सुधार हुआ है, इस मामले पर पर्यावरणविदों को सोचने का नया क्षेत्र विकसित किया है।
लॉक डाउन में प्रकृति ने खुद को सँवारा, सैकड़ों किलोमीटर दूर से देखी जा सकती है पहाड़ियां
Kangchenjunga and Himalaya Mountain Twitter

सहारनपुर से हिमालय दिखा :

अब अगर आपसे कोई कहे कि आप सहारनपुर से हिमालय (Himalaya) की चोटिया देख सकते है तो आपके लिए ये मजाक सा होगा। लेकिन अब यह मजाक तक सीमित नहीं है बल्कि यह सच मे हुआ है, इन दिनों हवा और वातावरण में प्रदूषण के स्तर में इस कदर सुधार हुआ है कि आप सहारनपुर में खड़े-खड़े हिमालय की चोटियों का दीदार कर सकते है। और ये सब हुआ है हवा के साफ होने के साथ-साथ होने वाली हल्की बूँदा बांदी से। दरअसल एक तो लॉक डाउन की वजह से विजिबिलिटी में तेजी से सुधार आया है वहीँ रुक-रुक कर होती बारिस ने हवा में मौजूद कार्बन के छोटे कणों( प्रदूषण) को ज़मीन पर बैठा दिया है जिस वजह से ऐसा संभव हो पाया है।

दूरी के बाद भी चमकी हिमालय की चोटियां:

जानकारों की माने तो सहारनपुर और हिमालयन क्षेत्र की दूरी करीब 200 किलोमीटर के आस पास है लेकिन अगर कोई 200 किलोमीटर की दूरी को देखने की बात करे तो संभव नही लगता, लेकिन ऐसा हुआ है।

इस तश्वीर में तो एक चोटी ही नजर आ गयी

सिलीगुड़ी से कंचनगंगा :

ठीक ऐसा ही कुछ पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में हुआ है जहां से दुनिया की तीसरे सबसे बड़े पहाड़ कंचनगंगा के देखने के बारे मे तश्वीरे रिपोर्ट की गई है। सोशल मीडिया में फैली इन तश्वीरो को देखकर एक अलग एहसास होता है और लगता है कि हमारे द्वारा प्रकृति का हक लगातार मारा जाता रहा है।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

No stories found.
उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com