मुनव्वर राणा के फिर बिगड़े बोल, असदुद्दीन ओवैसी को कहा सूअर का बच्चा

मामले की शुरुआत मुनव्वर राना के ट्वीट से शुरू होती है जिस में उन्होंने बिहार के मुसलमानों को धिक्कारते हुए कहा कि तुमने ओवैसी को जीताकर बिहार को हरा दिया।
मुनव्वर राणा के फिर बिगड़े बोल, असदुद्दीन ओवैसी को कहा सूअर का बच्चा
मुनव्वर राणा ने असदुद्दीन ओवैसी को कहा सूअर का बच्चाउदय बुलेटिन
डिस्क्लेमर: हम आपको पहले ही चेताते है कि ये शब्द पूर्णतया शायर मुनव्वर राणा के है और शायर मुनव्वर राणा के इस शब्द के लिए उनके वक्तव्य की मजम्मत करते है। किसी भी व्यक्ति के लिए इस तरह के शब्दों का प्रयोग न सिर्फ गलत है बल्कि चरित्र पर धब्बा लगाने जैसा है। शायर मुनव्वर राना ने राजनेता ओवैसी पर उनके धर्म मे हराम घोषित किये गए जानवर सुवर होना प्रयोग किया है। हम इस बयान की कड़ी निंदा करते है।डिस्क्लेमर: हम आपको पहले ही चेताते है कि ये शब्द पूर्णतया शायर मुनव्वर राणा के है और शायर मुनव्वर राणा के इस शब्द के लिए उनके वक्तव्य की मजम्मत करते है। किसी भी व्यक्ति के लिए इस तरह के शब्दों का प्रयोग न सिर्फ गलत है बल्कि चरित्र पर धब्बा लगाने जैसा है। शायर मुनव्वर राना ने राजनेता ओवैसी पर उनके धर्म मे हराम घोषित किये गए जानवर सुवर होना प्रयोग किया है। हम इस बयान की कड़ी निंदा करते है।

शायर मुनव्वर राना बीते कुछ दिनों से अलग ही फॉर्म में चल रहे है। दरअसल वो पहले शायर थे और अब आकर वो खुद को एक मुस्लिम के तौर पर पहचान पाए है। कोई आश्चर्य की बात नहीं की वो आने वाले वक्त में किसी राजनीतिक पार्टी के चिन्ह से चुनावी पर्चा भरते हुए नजर आए।

मुनव्वर इन दिनों खुद को लाइम लाइट में लाने के लिए बेकरार है फिर चाहे वह फ्रांस के मामले में गला काटने वाला बयान हो या भारत मे दिए गए काफी सारे बयान। इन बयानों से शायर मुनव्वर राना की छवी एक शायर से हटकर एक कट्टर मुस्लिम की होती जा रही है और शायद मुनव्वर चाहते भी यही है।

दरअसल इस तरह के क्रिया कलाप आपको अन्य नेताओं के बीच मे अलग छवि के साथ उभारते है। इसका बेहतर उदाहरण भाजपा के गिरिराज सिंह और कांग्रेस के राशिद अल्वी जैसे नेता जगजाहिर है।

क्या है मामला:

मामले की शुरुआत मुनव्वर राना के ट्वीट से शुरू होती है जिस में उन्होंने बिहार के मुसलमानों को धिक्कारते हुए कहा कि तुमने ओवैसी को जीता कर बिहार को हरा दिया। इसपर नव भारत टाइम्स के पत्रकार हिमांशु तिवारी ने उनसे फोन करके इस मामले पर उनका पक्ष जानना चाहा लेकिन पहले के ट्वीट वाला बयान तो छोड़िए मुनव्वर नया बयान दे बैठे।

मुनव्वर ने बिना किसी बात को घुमाए फिराये सीधे साफ शब्दों में ओवैसी को सुवर का बच्चा तक कह दिया साथ ही मुनव्वर राना यही तक नहीं रुके बयान में मुनव्वर ने ओवैसी के जातीय मामले में दखल देते हुए बताया कि ये जो ओवैसी है ना इसके बाप सड़क पर घूमते थे। इनके पास इतना पैसा कैसे आया। ये भाजपा की दलाली करके आगे बढ़े है। मुनव्वर ने डाक्टर अयूब और ओवैसी पर भाजपा के लिए मुस्लिमो को बरगलाने का काम किया है। ये सिर्फ और सिर्फ दलाल है।

मुस्लिमो पर बरसे मुनव्वर:

मुनव्वर राणा केवल ओवैसी और उनकी पार्टी पर ही नहीं बरसे बल्कि इस मौके पर उन्हें आजम खान की भी याद आयी और अन्य राज्यो में आने वाले चुनावों में ओवैसी की पार्टी की भूमिका ओर सवाल खड़े करते हुए कहा कि ये जो जाहिल किस्म के मुस्लिम वोटर है ना ये इनकी बातो में आकर बंगाल भी हार जाएंगे और इसके बाद 2022 तक ही भारत हिन्दू राष्ट्र घोषित हो जाएगा।

मुनव्वर की खीज जाहिर है:

अगर ताजा हालातो पर नजर डाली जाए तो शायर मुनव्वर राणा अब दरबारी कवि बन चले है। गंगा जमुनी तहजीब का दम भरने वाले शायर पार्टियों के प्रचार प्रसार में रचने बसने लगे है। अब अगर कोई किसी पार्टी या एलाइंस के समर्थक हो और सरकार ने बन पाए तो तकलीफ़ होना जॉयज है। सनद रहे कि मुनव्वर राणा वही शायर है जिन्हीने फ्रांस कार्टून मामले में गला रेतने की बात को न सिर्फ जायज करार दिया बल्कि यह भी कहा कि अगर उसकी जगह मैं होता तो मैं भी यही करता। हालांकि राजनीति मंशा तो मुनव्वर साहब ही जाने।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com