बाँदा में खनिज माफिया बेहद ताकतवर, खनिज अधिकारी पर हुआ जानलेवा हमला

अब इसे सरकार की नाकामी कहे या फिर खनिज माफिया का सत्ता पक्ष से पोषित होना? वरना खनिज अधिकारी पर हमला होने की बात बेहद आम नहीं है।
बाँदा में खनिज माफिया बेहद ताकतवर, खनिज अधिकारी पर हुआ जानलेवा हमला
घटना के बारे में जानकारी देते हुए खनिज विभाग के अधिकारी और हमले तोड़ा गया सरकारी वाहन। उदय बुलेटिन

आज बुंदेलखंड के खनिज माफिया के आगे सरकारी अमला बेहद कमजोर नजर आ रहा है मामला जिला मुख्यालय के नाक के नीचे केन नदी से जुड़ा हुआ है।

मुक्तिधाम रोड पर हुई वारदात:

दरअसल बीते रविवार की रात बारह बजे जिला खनिज अधिकारी को यह जनकारी मिली कि केन नदी के घाट से अवैध रूप से रेत के भरे हुए ट्रैक्टर निकाले जा रहे है। जिसपर जिला खनिज अधिकारी ने रात के करीब बारह बजे जिला पुलिस लाइन के चार हथियारबंद पुलिसकर्मियों के साथ मुक्ति धाम (राजघाट) का दौरा किया जिसपर मुक्तिधाम रोड पर ही खनिज अधिकारी को एक अवैध ट्रैक्टर आता हुआ नजर आया इससे पहले कि जिला खनिज अधिकारी और पुलिसकर्मियों द्वारा चालक को पकड़ा जाता ड्राइवर मौके से फरार हो गया। खनिज अधिकारी ने मौके से रेत का भरा हुआ ट्रैक्टर कब्जे में कर लिया।

मामले के थोड़ी ही देर बाद एक दूसरा ट्रैक्टर नजर आया जिसपर खनिज अधिकारी और पुलिसकर्मियों ने सतर्कता बरती और छिपकर ट्रैक्टर को मय चालक कब्जे में कर लिया। इस पर चालक द्वारा लगातार अपने मालिक को फोन लगाया जाता रहा लेकिन जब खनिज अधिकारी ने चालक का मोबाइल जब्त कर बंद कर दिया गया उसके बाद खनन माफिया का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया और भारी संख्या में लोगों के साथ मौके पर पहुँच गया।

अधिकारियों को झाड़ियों में छिपकर जान बचानी पड़ी:

पीड़ित खनिज अधिकारी और पुलिसकर्मियों के अनुसार थोड़ी ही देर बाद करीब 20 से ज्यादा मोटरसाइकलों पर करीब आधा सैकड़ा लोग हॉकी डंडो से लैस होकर मौके पर पहुँचे और खनिज अधिकारियों से जब्त किए गए ट्रैक्टर को छुड़वा लिया इस बीच जानलेवा हमले से बचने के लिए अधिकारियों समेत पुलिसकर्मियों को झाड़ियों में छिपकर जान बचानी पड़ी। इस दौरान हमलावरों ने मौके पर खड़ी खनिज विभाग की गाड़ी पर गुस्सा उतारा और गाड़ी को छतिग्रस्त कर दिया।जिस वक्त खनिज अधिकारी हमलावरों से अपनी जान बचा रहे हे, पुलिस लाइन में एडीजी प्रयागराज जोन मीटिंग ले रहे थे।

बचाने आयी भारी मात्रा मे पुलिस:

भयानक हमले को देखकर खनिज अधिकारी ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को जनाकारी दी और उसके बाद पुलिसबल ने मौके पर पहुँचकर रेत खदान से करीब 6 मोटरसाइकिल, एक बोलेरो और एक ट्रैक्टर जब्त किया इसके साथ ही एक हमले के आरोपी पप्पू निषाद उसके पुत्र समेत अन्य 50 लोगों के ऊपर आईपीसी की धारा 147, 332, 307, 427, 504 के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत कराया। पुलिस अन्य हमलावरों की तलाश में जी तोड़ मेहनत कर रही है।

खनन माफिया के परिवार के अपने आरोप:

इस मामले में खनन माफिया पप्पू निषाद के परिवार ने सदर भाजपा विधायक प्रकाश द्विवेदी को एक दिए गए शिकायती पत्र में खनिज अधिकारी और पुलिस पर घर मे घुसकर लूटपाट करने के आरोप लगाए। पप्पू निषाद की पत्नी चंद्रकली ने अपने शिकायती पत्र में यह जानकारी दी है कि करीब साढ़े तीन लाख के जेवर इन्हीं लोगों द्वारा जबरन ले जाये गए और उनके पति को फर्जी मुकदमे में फंसाया जा रहा है। चंद्रकली ने बताया कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो वह आमरण अनशन पर भी बैठने से नही चूकेंगी।

लोगों ने कहा पैसा न खिलाने के नतीजा है:

हालांकि खनिज अधिकारी पर हमले में लोगों के द्वारा तरह तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। क्योतरा निवासियों समेत मुक्तिधाम रोड मेँ रहने वालों ने बताया कि शाम ढलते ही यहाँ ट्रैक्टरों का रेत भरकर ले जाने का सिलसिला शुरू हो जाता है जो सुबह तक चलता है। यह बिना सरकारी मदद के संभव ही नहीं है। जिसमे खनिज अधिकारी के साथ-साथ पुलिसकर्मियों की मिलीभगत नजर आती है। लोगों के अनुसार खनिज अधिकारी के द्वारा उक्त व्यक्ति को सिर्फ इसलिए दोषी बनाया गया है क्योंकि वह विभाग में जाने वाला हिस्सा सही तरीके से नहीं पहुँचा पा रहा था।

⚡️ उदय बुलेटिन को गूगल न्यूज़, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें। आपको यह न्यूज़ कैसी लगी कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें।

Related Stories

उदय बुलेटिन
www.udaybulletin.com